ताज़ा खबर
 

रोजाना करें ये आसन तो आंखें रहेंगी स्वस्थ, बढ़ती उम्र में भी बनी रहेगी रोशनी

आंखों की खूबसूरती हमारे चेहरे की खूबसूरती के लिए बहुत जरूरी है। इनकी सेहत के प्रति लापरवाही आंखों पर चश्में चढ़वाकर आपकी खूबसूरती पर बट्टा लगा सकती है।
Author नई दिल्ली | July 15, 2017 16:37 pm
आंखें हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। वह हिस्सा जिससे हम इस दुनिया की खूबसूरती देख सकते हैं।

आंखें हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। वह हिस्सा जिससे हम इस दुनिया की खूबसूरती देख सकते हैं। आंखों की खूबसूरती हमारे चेहरे की खूबसूरती के लिए बहुत जरूरी है। इनकी सेहत के प्रति लापरवाही आंखों पर चश्में चढ़वाकर आपकी खूबसूरती पर बट्टा लगा सकती है। इसलिए समय रहते सतर्क हो जाना बहुत जरूरी है। वैसे भी बढ़ती उम्र के साथ आंखों की रोश्नी तो प्रभावित होती ही है। दरअसल आंखों की रोशनी कम होने का प्रमुख कारण है हमारी आंखों के आस-पास की मांसपेशियों का ढीला होना। इन्हें कसी हुई बनाए रखने से आंखों की रोशनी पर बढ़ती उम्र का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

सिर्फ बढ़ती उम्र ही नहीं लगातार कंप्यूटर पर काम करते रहने से भी आंखों की रोशनी में कमी आ जाती है। इसके अलावा आंखों में दर्द, सिरदर्द जैसी समस्याएं भी सामने आती हैं। इसलिए आज हम आपको आंखों के लिए उन आसनों के बारे में बताएंगे जिन्हें करने के बाद आपकी आंखों की सभी समस्याएं लगभग दूर हो जाएंगी। ये आसान काफी आसान हैं और कम समय में किए जा सकते हैं इसलिए इन्हें करने के लिए आपको समय का बहाना बनाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

सर्वांगासन एक ऐसा आसन है जिसमें शरीर के सभी अंगों का व्यायाम हो जाता है। इसे करने के लिए सबसे पहले सीधा लेट जाएं। फिर अपने दोनों पैरों को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं और पूरा शरीर गर्दन से समकोण बनाते हुए सीधा लगाएं। ऐसे में आपकी ठोड़ी सीने से लगनी चाहिए। ऐसी अवस्था में 10-12 बार गहरी सांस लें फिर धीरे-धीरे पैरों को नीचे करें। इस आसन से आंखों के आसपास मांशपेशियों में रक्तसंचार बढ़ता है। आंखों के लिए त्राटक आसन सबसे सही आसन है।

रात के अंधेरे में एक मोमबत्ती जलाकर रखें और उसके सामने प्राणायाम की मुद्रा में बैठ जाएं। एकटक अपलक मोमबत्ती को देखें। फिर थोड़ी देर प्राणायाम करें। इस पूरी प्रक्रिया को कम से कम तीन बार दुहराएं। शवासन और प्राणायाम भी आंखों की सेहत के लिए मददगार होते हैं। शवासन में शव की तरह लेट जाएं और सभी अंगों को रिलैक्स छोड़ दें। इससे आंखों को आराम मिलता है। प्राणायाम करने के बाद दोनों हाथों को आपस में रगड़कर आंखों पर ले जाएं और उसे स्पर्श करते हुए आंखें खोलें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on July 15, 2017 4:37 pm

  1. No Comments.
सबरंग