December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

दिल्‍ली-मुंबई जैसे शहरों में रहने वालों की याददाश्‍त खोने का खतरा: स्‍टडी

क्या आप भी कोई सामान कहीं भी रखकर भूल जाते हैं या क्या कोई भी काम आपको याद नहीं रहता है तो आपके लिए दिक्कत हो सकती है।

शहरी इलाकों में रह रहे लोगों को तनाव, चिंता और अवसाद यानि डिप्रेशन की वजह से मैमोरी लॉस का खतरा बढ़ जाता है।

क्या आप भी कोई सामान कहीं भी रखकर भूल जाते हैं या क्या कोई भी काम आपको याद नहीं रहता है तो आपके लिए दिक्कत हो सकती है। इन दिनों लोगों में भूलने की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है और उम्र बढ़ने के साथ भूलने की दिक्कत होना फिर भी सामान्य है, लेकिन कम उम्र में ही मैमोरी लॉस हो जाना या एकदम से भूलने की बीमारी हो जाना आपके लिए खतरनाक हो सकता है। यह समस्या किसी और वजह से नहीं बल्कि आपकी लाइफस्टाइल से हो सकती है और यह लाइफस्टाइल आपके शहर पर भी निर्भर करती है।

आपको बता दें कि हम में से अधिकतर लोग अच्छी लाइफ स्टाइल के लिए शहरों की तरफ जाते हैं, लेकिन यह शहर आपकी मैमोरी पर बुरा असर डाल सकते हैं। एक नई रिसर्च में सामने आया है कि फिजिशियन के अनुसार शहरी इलाकों में रह रहे लोगों को तनाव, चिंता और अवसाद यानि डिप्रेशन की वजह से मैमोरी लॉस का खतरा बढ़ जाता है। एकिवाडेम हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजी विभाग के एक डॉक्टर का कहना है कि शहरी जिंदगी के तनाव की वजह से यादाश्त कमजोर हो जाती है। स्कॉटिश रिसर्चर्स के अनुसार बिजी लाइफस्टाइल सिंड्रोम मैमोरी लॉस का कारण होता है। इस सिंड्रोम में डिप्रेशन, तनाव, एकाग्रता की कमी आदि भी शामिल है।

अल्जाइमर या पार्किंसन के मरीजों में मैमोरी लॉस की दिक्कत ज्यादा देखी जा रहे हैं, जिसमें पर्यावरणीय लक्षण आम थे। डॉक्टर का कहना है कि अगर मैमोरी लॉस से जुड़े कोई लक्षण दिखाई दे तो आपको जल्द से जल्द न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाना चाहिए। यह लक्षण किसी की शक्ल ना पहचानना और बार-बार एक ही सवाल पूछना आदि हो सकते हैं। अगर आपको भी ऐसी शिकायत है तो आपको अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव करना चाहिए और उसके साथ ही नियमित रुप से पोषक तत्व वाला भोजन लें। वहीं अपनी दिनचर्या में परिवर्तन करें और समय पर खाना खाएं और भरपूर नींद लें। इससे एकाग्रता में कमी और मेमोरी लॉस जैसे लक्षण सामने आते हैं। अनिद्रा भी ब्रेन फंक्‍शन को प्रभावित करती है। अवसाद कम करने वाली और एंटी-बायोटिक दवाएं भी व्यवहार में सुस्ती एवं दिमागी उलझन के लिए जिम्मेदार हैं।

बैंक पहुंची प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां; 4500 रुपए के नोट बदलवाए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 15, 2016 2:36 pm

सबरंग