December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

जानिए- दूध और दही में से सेहत के लिए कौन है ज्यादा फायदेमंद?

आज हम आपको बता रहे हैं कि आपकी सेहते के लिए दूध ज्यादा फायदेमंद है या दही।

दूध और दही में से दही खाना सेहत के लिहाज से ज्यादा अच्छा है।

आपने कई लोगों को देखा होगा कि वो दही खाते हैं, लेकिन दूध नहीं पीते हैं और उन्हें दूध से दिक्कत होती है। जबकि लोगों के साथ इसका उल्टा है। वहीं आपने इस बात को लेकर भी बहस देखी होगी कि दूध ज्यादा फायदेमंद होता है और दही कम, तो कई लोगों को तर्क है कि दूध कम फायदेमंद होता है। आज हम आपको बता रहे हैं कि आपकी सेहते के लिए दूध ज्यादा फायदेमंद है या दही।

न्यूट्रिशियन नैनी सीतलवाड़ का कहना है कि दूध और दही में से दही खाना सेहत के लिहाज से ज्यादा अच्छा है। उनका कहना है कि दही को पचाने में काफी आसानी होती है। इसलिए कमजोर पाचन क्षमता वाले लोग इसे दूध पर तरजीह दे सकते हैं और ये प्रोबायोटिक होता है। साथ ही दही खाने से पेट के इंफेक्शन्स से बचाव होता है। उन्होंने बताया कि जिन लोगों को यूरीनरी इंफेक्शन बार-बार होता है उन्हें दही खानी चाहिए क्योंकि ये इस समस्या को रोकता है।

क्या दूध पीना ठीक नहीं है?- दूध को कंप्लीट फूड माना जाता है क्योंकि इसमें वो सारे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो एक संतुलित आहार में होने चाहिए। ये प्रोटीन और मिनरल्स का अच्छा स्रोत है। इसलिए यह कहना गलत हो सकता है कि दूध शरीर के लिए हानिकारक है।

क्या लो-फैट फुल-फैट से बेहतर है?– अगर आप वजन घटा रहे हैं तो आपके लिए लो-फैट दूध फुल-फैट से बेहतर है। फुल-फैट दूध से बने 100 ग्राम दही में 60 कैलोरी होती है जबकि लो-फैट दूध के दही में 22 कैलोरी होती है।

एक दिन में कितना दही खाना चाहिए ?- एक दिन में 250 एमएल दही खाना सही रहता है। हालांकि इसकी मात्रा आपके बाकी के खानपान पर काफी हद तक निर्भर करती है।

दही खाने का सबसे अच्छा वक्त कौन सा है?– दही अगर दोपहर में खाई जाए तो इसके फायदे अधिक होते हैं। कोशिश करें कि दही दिन में दो बजे से पहले खा लें।

किसके लिए नुकसानदायक होता है दही?– जिन लोगों को अर्थराइटिस, अस्थमा, कब्ज़ और ब्लॉटिंग की समस्या बोती है उन्हें दही खाने से बचना चाहिए। अगर आपको लैक्टोज़ नुकसान करता है तब भी दही से दूर रहें।

राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट हैक; किए गए गांधी परिवार के बारे में आपत्तिजनक ट्वीट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on December 1, 2016 10:15 am

सबरंग