ताज़ा खबर
 

दांत में सेंसिटिविटी है तो आजमाएं ये घरेलू नुस्खे, कुछ ही दिनों में मिलेगा आराम

आइए जानते हैं दांतों की सेंसिटिविटी के लिए कौन-कौन से नुस्खे काम आ सकते हैं।
प्रतीकात्मक फोटो (Source: Agency)

कई बार आपको कुछ ठंडा खाने पर दांतों में तेज ठंडा और गर्म खाने पर गर्म लगता है, इसे दांतों में सेंसिटिविटी की दिक्कत कहते हैं। अगर आपके साथ भी ऐसी ही कोई दिक्कत है तो आप आसानी से घर पर घरेलु उपचार के माध्यम से इससे निजात पा सकते हैं। आइए जानते हैं दांतों की सेंसिटिविटी के लिए कौन-कौन से नुस्खे काम आ सकते हैं।

सरसों का तेल और सेंधा नमक- सेंधा नमक का एन्टी बैक्टिरीअल गुण दांतों की संवेदनशीलता से जल्दी राहत दिलाता है। सरसों का तेल मसूड़ों को मजबूती प्रदान कर मसूड़ों के कारण जो संवेदनशीलता होती है उससे राहत दिलाता है। इसके लिए एक छोटा चम्मच सेंधा नमक में एक छोटा चम्मच सरसों का तेल डालकर अच्छी तरह से मिला लें और उस पेस्ट से दांत और मसूड़ों की अच्छी तरह से मसाज करें। पांच मिनट के बाद गुनगुने गर्म पानी से मुंह को धो लें।

लौंग तेल- लौंग में एन्टी-इन्फ्लैमेंटरी, एन्टी-बैक्टिरीअल और एनिस्थेटिक गुण होने के साथ-साथ एन्टीऑक्सिडेंट गुण भी होते है। ये इन्फेक्शन से लड़ने के साथ-साथ दांत के दर्द से राहत दिलाता है। लौंग के तेल में रूई को भिगोकर दांत पर लगाने से संवेदनशीलता दूर होती है और आपको ठंडा गर्म की दिक्कत से आराम मिलता है।

नमक- दांत में दर्द ठीक करने का यह पुराना और असरदार उपाय है। एक ग्लास पानी में दो छोटे चम्मच नमक डालकर उसको माउथ क्लिनर जैसा इस्तेमाल करने पर दांतों की संवेदनशीलता में बहुत लाभ मिलता है।

प्रोपोलीस- प्रोपोलीस एक प्रकार का वैक्स या मोम जैसा होता है जो कुछ पौधों के कली और मधुमक्खियों के ग्लैन्ड से जो पदार्थ निकलता है उन दोनों को मिलाकर बनाया जाता है। यह दांतों की संवेदनशीलता की समस्या से कुछ हद तक राहत दिलाता है।

अजवाइन- अजवाइन का तेल एन्टिसेप्टिक और पेन किलर का काम करता है। संवेदनशील दांतों पर अजवाइन का तेल लगाने से जल्दी राहत मिलती है और तिल का तेल मुंह के भीतर अच्छी तरह से लगाने से आश्चर्यजनक रूप से काम करता है। ये मुंह के जीवाणु को नष्ट करके एनामेल से जो मिनरल निकल जाते हैं उसको वापस लौटाने में मदद करते हैं। ये मसूड़ों को मजबूत करने के साथ-साथ संवेदनशीलता से राहत दिलाता है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद महिला कार्यकर्ताओं ने हाजी अली दरगाह में किया प्रवेश

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.