December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

अगर आप भी खाना खाने के बाद खाते हैं मीठा तो पहले पढ़ लें ये खबर

क्या आपको भी खाना खाने के बाद मीठा खाना अच्छा लगता है या आप भी खाने खाते ही मीठे की तलाश करते हैं?

खाने के बाद मीठा खाना सेहत के अनुसार अच्छी आदत नहीं है। ये न सिर्फ आपका शुगर इनटेक बढ़ाती है बल्कि बाद में जाकर ये मोटापे और सेहत से जुड़ी दूसरी समस्याओं का जोखिम पैदा करती है।

क्या आपको भी खाना खाने के बाद मीठा खाना अच्छा लगता है या आप भी खाने खाते ही मीठे की तलाश करते हैं? घर से लेकर पार्टियों में भी आप खाना खाने के बाद डेजर्ट के रुप में मीठा खाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं ये आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। मुंबई की एक जानी मानी डायटीशियन और ओबेसिटी कंसल्टेंट नैनी सीतलवाड़ का कहना है कि खाने के बाद मीठा खाना सेहत के अनुसार अच्छी आदत नहीं है। ये न सिर्फ आपका शुगर इनटेक बढ़ाती है बल्कि बाद में जाकर ये मोटापे और सेहत से जुड़ी दूसरी समस्याओं का जोखिम पैदा करती है।

उन्होंने बताया कि ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपके खाने में, खासतौर से अनाज और दालों में शुगर मौजूद होता है। यही आपके खाने का बड़ा हिस्सा होते हैं। इसलिए इन्हें खाने भर से ही आपकी रोज़ की शुगर की जरूरत पूरी हो जाती है। फिर जब आप खाने के बाद मीठा खाते हैं तो आपका ब्लड ग्लूकोज लेवल बढ़ सकता है। ब्लड ग्लूकोज लेवल के अचानक बढ़ जाने से इम्यूनिटी कम होती है, और कई तरह की गंभीर बीमारियों जैसे कि डायबिटीज, मोटापा, किडनी की बीमारी या दिल की बीमारी का जोखिम बढ़ जाता है।

वहीं अमेरिका में भी किए गए एक शोध में सामने आया है कि हमारे शरीर में लेप्टिन नाम का एक हार्मोन होता है, जिसका संबंध हमारी भूख से होता है और खाना खाने के बाद मीठा खाने से यह गलत तरीके से काम करता है और इससे मोटापा बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि गर्मियों के दौरान मीठे या डेजर्ट में फल और सर्दियों में ड्राई फ्रूट लिए जा सकते हैं। ये नैचुरल शुगर के स्रोत हैं। यह आपको तुरंत एनर्जी देते हैं और ब्लड ग्लूकोज लेवल गिरने से रोकते हैं। नैनी सीतलवाड़ का कहना है कि अगर आपने बैलेंस डायट ली है जिसमें शुगर, फैट, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और ढेर सारे ताजे फल-सब्जी हों तो मैं खाने के बाद मीठा खाने की सलाह नहीं दूंगी। अगर आप लंबे वक्त से खाने के बाद मीठा खाने के आदि हैं तो धीरे-धीरे इस आदत को छोड़ें।

हेल्थ से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 15, 2016 7:40 am

सबरंग