December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

सस्ती होगी डायबिटीज और हेपेटाइटिस बी की दवा, चंडीगढ़ के वैज्ञानिकों ने ईजाद की स्वदेशी तकनीक

भारत चीन के बाद दुनिया का दूसरा ऐसा देश है जहां डायबिटीज और हेपेटाइटिस बी के सबसे ज्यादा मरीज हैं। भारत में 6.6 करोड़ डायबिटीज और 4 करोड़ हेपेटाइटिस बी के मरीज हैं।

स्वदेशी तकनीक विकसित होने से सस्ती हो जाएंगी डायबिटीज की दवा (फाइल फोटो)

डायबिटीज और हेपेटाइटिस बी के लाखों रोगियों के लिए राहत भरी खबर है। अब उनकी दवाएं सस्ती हो सकती हैं। चंडीगढ़ स्थित इन्स्टीच्यूट ऑफ माइक्रोबियल टेक्नोलॉजी (IMTECH) के वैज्ञानिकों ने स्वदेशी तकनीक ईजाद की है जिसके जरिए ऐसी दवाओं की कीमत तीन से चीर गुना सस्ती हो जाएगी। इस तकनीक से प्रोटीन आधारित दवाएं जैसे इन्सुलिन, स्ट्रेपटोकाइनेज (क्लॉट बस्टर) और हेपेटाइटिस बी का टीका बनाया जा सकेगा। फिलहाल भारत ऐसी दवाओं और पेटेंट टेक्नोलॉजी का आयात करता है जिससे ऐसी दवाएं बनती हैं। इम्टेक की ईजाद की गई नई तकनीक के महत्व का इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि भारत चीन के बाद दुनिया का दूसरा ऐसा देश है जहां डायबिटीज और हेपेटाइटिस बी के सबसे ज्यादा मरीज हैं। भारत में 6.6 करोड़ डायबिटीज और 4 करोड़ हेपेटाइटिस बी के मरीज हैं। वैज्ञानिकों और रिसर्च फेलोज ने यह कामयाबी डॉ. जगमोहन सिंह के नेतृत्व में हासिल की है। डॉ. सिंह इन्स्टीच्यूट ऑफ माइक्रोबियल टेक्नोलॉजी (IMTECH) में प्रधान वैज्ञानिक हैं। उन्होंने बताया कि जल्द ही इन दवाओं का कॉमर्शियल प्रोडक्शन शुरु किया जाएगा।

फिलहाल भारत में हेपेटाइटिस बी के जो टीके मिल रहे हैं उनकी कीमत 45 रुपये से 250 रुपये के बीच है। बच्चों को लगने वाला टीका 0.5 मि.ली. में 10 माइक्रोग्राम का होता है जबकि वयस्कों को दिया जानेवाला 20 माइक्रोग्राम का होता है। इसकी कीमत दोगुनी होती है। इन्सुलिन की कीमत भी 140 रुपये से लेकर 325 रुपये प्रति इंजेक्शन होती है। स्लो वैरियेंट इन्सुलिन ग्लैरजिन की कीमत बाजार में 410 रुपये से 1475 रुपये के बीच प्रति वॉल्व है।

स्पीड न्यूज देखिए

कुछ महीने पहले सरकार ने कैंसर, मधुमेह, विषाणु संक्रमण और उच रक्तचाप के इलाज में इस्तेमाल होने वाली 56 महत्त्वपूर्ण दवाओं की कीमतों की सीमा तय की थी। इससे औसतन कीमत में करीब 25 प्रतिशत की कमी होनी है। हालांकि औषधि कीमत नियामक राष्ट्रीय औषधि कीमत प्राधिकरण (एनपीपीए) ने ग्लूकोज और सोडियम क्लोराइड इंजेक्शन जैसे नसों में दिए जाने वाले फ्लूड के छोटी मात्रा के पैक की कीमतों में वृद्धि की थी।

Read Also-बैठे रहने से हर घंटे 22 फीसदी बढ़ जाता है डायबिटीज होने का खतरा: स्‍टडी 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 16, 2016 2:18 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग