January 21, 2017

ताज़ा खबर

 

चिकनगुनिया ठीक होने के बाद भी हो रहा है जोड़ों में दर्द? तो जानिए- कैसे होगा ठीक

आज हम आपको इस दर्द को दूर करने के घरेलू उपाय बता रहे हैं जिससे कि आप इस दर्द से निजात पा सकते हैं।

चिकनगुनिया होने के बाद जोड़ों में दर्द रह जाता है और मरीज कई दिनों तक इससे परेशान रहता है।

इन दिनों चिकनगुनिया का आंतक फैला हुआ है। हर कोई इस रोग से परेशान है और इस रोग की खास बात ये है कि इस रोग से ठीक होने के बाद भी इसका असर कई दिनों तक रहता है। चिकनगुनिया होने के बाद जोड़ों में दर्द रह जाता है और मरीज कई दिनों तक इससे परेशान रहता है। आज हम आपको इस दर्द को दूर करने के घरेलू उपाय बता रहे हैं जिससे कि आप इस दर्द से निजात पा सकते हैं।

लहसून का पेस्ट- अगर आप भी चिकनगुनिया से होने वाले जोड़ों के दर्द से परेशान हैं तो लौंग के तेल या लहसून के पेस्ट को मिर्च के साथ मिलाकर जोड़ो के दर्द पर लगाएं। ऐसा करने से आपको कुछ ही दिनों में फर्क दिखने लगेगा। साथ ही अगर आप अश्वगंधा का भी सेवन करें तो यह आपके जोड़ों के दर्द को ठीक कर सकता है।

अंगूर- गाय के दूध के साथ अंगूर का सेवन करने से भी चिकनगुनिया के लक्षणों से आराम मिलता है। हालांकि अंगूर लेते समय ये ध्यान रखें कि अंगूर बिना बीज वाले और सूखे होने चाहिए।

गाजर- वहीं गाजर भी जोड़ों के दर्द के लिए लाभदायक है। सलाद के रुप में गाजर लेने से आपके शरीर में चिकनगुनिया से होने वाले प्रभाव से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है जिससे कि जोड़ों में होने वाला दर्द जल्द ही ठीक हो जाता है।

READ ALSO: जानिए- क्या है डेंगू, चिकनगुनिया और सामान्य बुखार में अंतर

एक्सरसाइज करें- अगर कई दिनों से आपका दर्द ठीक नहीं हो रहा है तो धीरे-धीरे एक्सरसाइज करना शुरू कर दें। इसमें ज्यादा मुश्किल एक्सरसाइज ना करें बल्कि स्ट्रेचिंग और स्लो मूवमेंट जैसी एक्सरसाइज करें। ऐसा नियमित रुप से करने से आपके जोड़ों का दर्द जल्द ठीक होने लगता है। इसी के साथ नारियल के तेल के साथ जोड़ों की मसाज करें और नारियल के पानी का भी सेवन करें।

बर्फ का सेक- जोड़ों के इस दर्द से फायदा दिलाने में बर्फ भी मदद करती है। इसके लिए एक छोटे तोलिए में बर्फ डालकर दर्द की जगह सेक करें। ऐसा करने से भी दर्द ठीक हो जाता है।

हेल्थ से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

देखें- देश-दुनिया की बड़ी खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 10:58 am

सबरंग