December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

दिन में थोड़ी देर चुप रहने से भी होते हैं कई चौंकाने वाले फायदे

अगर आप अपनी भागदौड़ वाली जिंदगी से अलग हटकर दिन में कुछ देर शांत रहते हैं तो आपको इसकी आप ज्यादा हेल्दी रह सकते हैं।

अगर आप दिन में एक बार पार्क में चुप रहकर वॉक करते हैं तो आपकी मैमोरी में अच्छा असर पड़ता है।

आजकल हर कोई शोरगुल वाले माहौल में रहता है और साथ ही खुद भी पूरे दिन बोलता रहता है, जो कि काम की दृष्टि से बहुत जरुरी भी है। लेकिन आपको बोलने के साथ साथ चुप रहना भी जरुरी है, क्योंकि इससे आपकी सेहत को कई फायदे हो सकते हैं। अगर आप अपनी भागदौड़ वाली जिंदगी से अलग हटकर दिन में कुछ देर शांत रहते हैं तो आपको इसकी आप ज्यादा हेल्दी रह सकते हैं। आइए जानते हैं चुप रहने के क्या क्या फायदे होते हैं।

तेज काम करता है दिमाग- अगर आप एक दिन में कुछ देर शांत माहौल में शांत बैठते हैं तो इससे आपका दिमाग तेज काम करने लग जाता है। दरअसल कुछ देर शांत होकर बैठने से ब्रेन सेल्स दोबारा जेनेरेट हो जाते हैं मतलब ब्रेन सेल्स फिर से पुनर्जीवित हो जाते हैं। चूहों के दिमाग पर की गई रिसर्च के बाद सामने आया है कि शांत रहने से हमारा दिमाग कई गुना ज्यादा बेहतर काम करता है।

यादाश्त होती है मजबूत- अगर आप दिन में एक बार पार्क में चुप रहकर वॉक करते हैं तो आपकी मैमोरी में अच्छा असर पड़ता है। साल 2011 में प्रोसिडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस में छपे एक शोध के अनुसार जो लोग एक हफ्ते में तीन बार 40 मिनट तक वॉक करते हैं उनके दिमाग का हिप्पोकैंपस में विकास होता है। बता दें कि यह हिप्पोकैंपस वो हिस्सा है जो आपकी मैमोरी से संबंधित होता है।

तनाव दूर होता है- शोरगुल से दिमाग पर असर पड़ता है जिससे कि कई स्ट्रेस हार्मोन्स पैदा होने लगते हैं। यह तब होता है जब आवाज की तरंगे कान के जरिए आपके दिमाग तक पहुंचती है और शरीर को इसपर प्रतिक्रिया देनी पड़ती है और इससे हार्मोन्स रिलीद होते हैं। 2006 में की गई एक शोध में सामने आया था कि मौन कुछ ही देर में दिमाग से टेंशन रिलीज करता है। रिसर्च में सामने आया था कि इससे गाने सुनने से भी ज्यादा आराम मिलता है।

नींद और डिप्रेशन के लिए असरदार- दिन में कुछ देर शांत रहने से आपको अच्छी नींद आने लगती है। साल 2015 में जामा इंटर्नल मेडिसिन में पाया गया कि कुछ युवाओं में दिन में थोड़ी देर शांत रहने के बाद से डिप्रेशन, नींद ना आना जैसी दिक्कतों में सुधार हुआ है। इसके लिए शांत रहकर अपनी सांसों पर ध्यान देना चाहिए और भविष्य व पुराने समय को छोड़कर वर्तमान में ध्यान लगाना चाहिए।

एक वेबसाइट में छपे एक लेख के अनुसार खाना खाते समय भी मौन का अभ्यास करना फायदेमंद है। एक तो आप इस तरह धीरे धीरे खाते हैं, उसे ज्यादा चबाते हैं। इससे ना सिर्फ सेहत अच्छी रहती है बल्कि आपको खाने में मजा भी आता है और खाने का स्वाद पता चलता है।

वहीं सेहत ही नहीं शांत रहने से आपके रिश्तों में भी सुधार होता है और आपके दिमाग की क्रिएटिविटी उभर कर सामने आती है। वहीं किसी भी लड़ाई में शांत रहने से लड़ाई खत्म हो सकती है। क्योंकि जब दूसरा व्यक्ति चिल्ला रहा हो और आप शांत हो तो आपसे लड़ रहा व्यक्ति भी खुद परेशान हो जाएगा। मौन की स्थिति में किसी भी बात पर ज्यादा सोचने, जरूरत से ज्यादा प्रतिक्रिया देने और अंतत: दिमाग में बैठी रही फालतू की बातों से बच सकते हैं।

हेल्थ से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 2, 2016 3:13 pm

सबरंग