December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

ज्यादा फैट से बढ़ने से आंखों पर पड़ता है ये असर, जिंदगी भर हो सकती है दिक्कत!

एक रिसर्च के अनुसार फैट से आपकी आंखों पर भी असर पड़ता है। रिसर्च में बताया गया है कि फैट की अधिकता वाले आहार के सेवन से गट (आंत) बैक्टीरिया में बदलाव आता है।

आंखों पर असर पड़ने के साथ ही आंखों में होने वाली गंभीर बीमारी हो सकती है या इसकी वजह से आंखों की रोशनी भी जा सकती है।

ज्यादा फैट वाली डाइट लेने से सिर्फ आपकी कमर या हाथ-पांव पर ही असर नहीं पड़ता है, बल्कि इससे आपके शरीर के और अंग भी प्रभावित होते हैं। शरीर में बढ़ रहे फैट यानि चर्बी से कई अन्य रोग होने भी शुरू हो जाते हैं। हाल ही में सामने आई एक रिसर्च के अनुसार फैट से आपकी आंखों पर भी असर पड़ता है। रिसर्च में बताया गया है कि फैट की अधिकता वाले आहार के सेवन से गट (आंत) बैक्टीरिया में बदलाव आता है। साथ ही इससे आंखों पर असर पड़ने के साथ ही आंखों में होने वाली गंभीर बीमारी हो सकती है या इसकी वजह से आंखों की रोशनी भी जा सकती है, इसे एज रिलेटेड मैक्युलर डीजेनरेशन (एएमडी) कहते हैं।

जर्नल ईएमबीओ मोलेकुलर मेडिसिन में छपे इस रिसर्च के अनुसार अगर वैट एएमडी बढ़ती है तो आपके आंत के बैक्टीरिया कई बीमारियां बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है। मांट्रियल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का कहना है कि हमारे शोध के अनुसार अधिक फैट वाली डाइट से शरीर में दीर्घकालीन उत्तेजना की स्थिति उत्पन्न होती है। बता दें कि उत्तरी अमेरिका में इस बीमारी से एक करोड़ से ज्यादा लोग पीड़ित हैं। बढ़ती उम्र में इसका खतरा और ज्यादा रहता है। साथ ही आगे चलकर यह वेट एएमडी में तब्दील हो जाता है। एएमडी दो तरह के होते हैं, ड्राई और वेट।

ड्राई एएमडी की स्थिति में रेटिना का सेंटर क्षतिग्रस्त होने लगता है, जबकि वेट एएमडी में रेटिना के अंदर छिद्र वाली रक्त धमनियां विकसित होने लगती हैं। साथ ही इस बीमारी के इलाज भी कम साबित हो रहे हैं और इसके असर को कम करने के लिए कुछ रास्ता निकालने की भी जरुरत है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि आंत में बैक्टीरिया बदलाव आपके लिए पूरे शरीर के लिए बड़ी दिक्कत खड़ी कर सकते हैं और वेट एएमडी की वजह से बीमारियां बढ़ने का खतरा भी बना रहता है।

‘फोर्स 2’ देखने जा रहे हैं? पहले फिल्म का रिव्यू तो जान लें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 18, 2016 5:42 pm

सबरंग