ताज़ा खबर
 

जानें- आपके लिए गर्म दूध ज्यादा फायदेमंद है या ठंडा दूध?

ये आप सब जानते हैं कि दूध पीना आपकी सेहत के लिए लाभदायक होता है और यह कैल्शियम, पोटेशियम और विटामिन डी का बहुत अच्छा स्रोत होता है। लेकिन दूध को लेकर भी कई अलग-अलग तथ्य सामने आते हैं।
अगर आपको लैक्‍टोज नहीं पचता तो आप ठंडा दूध पीने से बचें क्‍योंकि इसे पचाना आपके लिए मुश्किल होगा।

ये आप सब जानते हैं कि दूध पीना आपकी सेहत के लिए लाभदायक होता है और यह कैल्शियम, पोटेशियम और विटामिन डी का बहुत अच्छा स्रोत होता है। लेकिन दूध को लेकर भी कई अलग-अलग तथ्य सामने आते हैं। कई लोगों का मानना है कि गर्म दूध आपकी सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद होता है तो कई लोगों का कहना है कि ठंडा दूध पीना चाहिए। हालांकि कई लोग गर्म और ठंडे दूध का चुनाव टेस्ट के आधार पर करते हैं। मगर आपको बता दें कि कई मायनों में गर्म दूध ज्यादा फायदेमंद होता है तो कई मायनों में ठंडा सेहत के लिए लाभदायक होता है। आइए जानते हैं कि आपकी हेल्थ के हिसाब से ठंडा दूध ज्यादा फायदेमंद होता है या गर्म दूध ज्यादा फायदेमंह होता है।

इस स्थिति में पीएं गर्म दूध- गर्म दूध का सबसे बड़ा लाभ ये है कि ये आसानी से पच जाता है। अगर आपको लैक्‍टोज नहीं पचता तो आप ठंडा दूध पीने से बचें क्‍योंकि इसे पचाना आपके लिए मुश्किल होगा। आप ठंडे दूध का आनंद उसमें अनाज के पदार्थ मिलाकर ही ले सकते हैं। गर्म दूध में लैक्‍टोज कम हो जाता हैं और इससे दस्‍त और बदहजमी जैसी समस्या नहीं होती।

गर्म दूध से आती है नींद- गर्म दूध सेहत के साथ साथ आपको अच्छी नींद भी दिलाता है। अगर आपको भी नींद आने में दिक्कत है तो बिस्‍तर पर जाने से पहले एक गिलास गर्म दूध पी सकते हैं। दूध में ट्रिप्‍टोफैन नाम का एमिनो एसिड होता है जो सेरोटोनिन और मेलाटोनिन नाम का केमिकल पैदा करते हैं जिससे आपको आराम मिलता है और अच्‍छी नींद आती है।

एसिडिटी की दिक्कत हो तो ना पीएं गर्म दूध- ठंडा दूध पेट में एसिडिटी के कारण होने वाली जलन में राहत पहुंचाने के लिए बेहतर पदार्थ है। खाने के बाद आधा गिलास ठंडा दूध पीने से एसिड उत्‍पादन खत्‍म हो जाता है और एसिडिटी से राहत मिलती है।

ठंडा दूध भी है फायदेमंद- ठंडा दूध पीने से आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होगी। सुबह के समय ठंडा दूध पीने का सबसे बेहतर समय होता है। अगर आप फ्लू और कोल्‍ड से पीड़ित हैं, तो ठंडा दूध पीने से बचें।

नोटबंदी: जब बीमार को खटिया सहित लाना पड़ा बैंक

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.