December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

शुभ-अशुभ की वजह से नहीं, इन वैज्ञानिक कारणों से फड़कती हैं आंखे

आज हम आपको बताते हैं कि आपकी आंख क्यों फड़कती है और इसके पीछे क्या कारण है।

आंखों का फड़कना तनाव का ही एक संकेत हो सकता है और अगर आपको दिखने संबंधी कोई दिक्कत होती है तो आंखों में तनाव जैसी कोई दिक्कत हो सकती है।

आंख फड़कना शरीर की आम प्रक्रिया है और कई लोग इससे अच्छा होना या बुरा होने की बात भी कहते हैं। लेकिन आपको बता दें कि यह आपके शरीर की आम प्रक्रिया है और यह वैज्ञानिक कारणों की वजह से फड़कती है। केजे सोमैया मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च सेंटर में डिपार्टमेंट ऑफ्थैलमोलोजी के एसोसिएट प्रोफेसर डॉक्टर ओमकार तेलांग के अनुसार यह कुछ मिनट से लेकर कई महीनों तक भी हो सकता है। आइए आज हम आपको बताते हैं कि आपकी आंख क्यों फड़कती है और इसके पीछे क्या कारण है।

तनाव- जब आप तनाव में होते हैं, तो आपका शरीर भी अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया देता है। आंखों का फड़कना तनाव का ही एक संकेत हो सकता है और अगर आपको दिखने संबंधी कोई दिक्कत होती है तो आंखों में तनाव जैसी कोई दिक्कत हो सकती है।

थकान- तनाव या किसी अन्य वजह से जब आपकी नींद पूरी नहीं हो पाती है, तो ऐसे में आपकी आंख फड़फड़ा सकती है। एक अच्छी नींद लेने से आपको इसे रोकने में मदद मिल सकती है।

सूखी आंखें- कंप्यूटर यूज करने वालों, एंटीथिस्टेमाइंस व ऐन्टीडिप्रेसन्ट जैसी दवाएं लेने वालों और कांटेक्ट लेंस पहनने वालों को ड्राई आई का अधिक खतरा होता है। थकान और तनाव के कारण भी इसका खतरा बढ़ जाता है। आंख की सतह के लिए नमी को बनाए रखने से ऐंठन को रोकने और फड़कने के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है।

एलर्जी- जिन लोगों को आंखों के एलर्जी होती हैं उन्हें आंखों में खुजली, पानी आना और फड़कना जैसी समस्या हो सकती है। इससे निपटने के लिए डॉक्टर किसी ड्रॉप या दवा की सलाह दे सकता है।

शराब- अगर आपको लगता है कि आपकी आंखें कुछ ज्यादा ही फड़कती हैं, तो आपको कुछ समय के लिए शराब के सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि अधिक शराब पीने से भी यह समस्या हो सकती है।

पोषक तत्वों की कमी- मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों की कमी के कारण भी पलक की ऐंठन को गति मिल सकती है। इसलिए अपने भोजन में मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करना बहुत जरूरी है।

ग्राहक ने थमाया 2000 रुपए का नकली नोट; दुकानदार ने की पुलिस में शिकायत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 24, 2016 11:04 am

सबरंग