ताज़ा खबर
 

रोजाना खाएंगे टमाटर तो नहीं होगा कैंसर, जानिए और क्या हैं फायदे

टमाटर कैंसर जैसी खतनाक बीमारी को रोकने के लिए भी प्रयोग में लाया जा सकता है।
टमाटर में ऐसे पौष्टिक तत्वों की भरमार होती है जो प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में काफी मददगार होती है।

टमाटर लगभग हर मौसम में मिलने वाली सब्जी है। लोग सलाद के रूप में कच्चे टमाटर का भी प्रयोग करते हैं, साथ ही साथ सब्जी आदि बनाने में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। खाने के अलावा टमाटर का प्रयोग ब्यूटी ट्रीटमेंट के तौर पर भी किया जाता है। हाल ही में एक शोध में बताया गया कि टमाटर कैंसर जैसी खतनाक बीमारी को रोकने के लिए भी प्रयोग में लाया जा सकता है। शोध में यह कहा गया है कि अगर हफ्ते में कम से कम दस बार टमाटर का सेवन किया जाए तो आपमें कैंसर होने की संभावनाएं 45 फीसदी तक कम हो जाती हैं।

टमाटर में ऐसे पौष्टिक तत्वों की भरमार होती है जो प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में काफी मददगार होती है। इसके अलावा टमाटर में कैरोटिनॉयड नाम का तत्व पाया जाता है जो ट्यूमर को कम करने में काफी मदद करता है। इसमें मौजूद लाइकोपीन नाम का रसायन कैंसर से लड़ने की योग्यता रखता है। टमाटर को नियमित रूप से सलाद में इस्तेमाल कर पेट के कैंसर के होने के खतरे को 60 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। अन्य खाद्य पदार्थों को जब हम फ्राई करते हैं तो उनके पोषक तत्व कम हो जाते हैं, जबकि टमाटर के पोषक तत्व उसे पकाने, फ्राई करने के बाद भी वैसे ही रहते हैं।

शोधकर्ताओं का कहना है कि सभी लाल फलों में लाइकोपीन नाम का रसायन पाया जाता है, लेकिन टमाटर में इसकी मात्रा अन्य के मुकाबले ज्यादा होती है। इसकी वजह से शरीर में स्वस्थ की खून की आपूर्ति संभव हो पाती है। यह कैंसर कोशिकाओं को तितर-बितर करने में माहिर है। इसके अलावा टमाटर में आइकोपीन तथा बीटा कैरोटिन काफी मात्रा में पाए जाते हैं। बीटा कैरोटिन की खासियत यह होती है कि वह शरीर में जाकर विटामिन ए में बदल जाता है। यह विटामिन ए हड्डियों के कैंसर में काफी लाभकारी है। पुरुषों के लिए रोज टमाटर खाना काफी लाभकारी है। इससे उनमें प्रोस्टेट कैंसर की संभावना कम हो जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.