December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

हर रोज खाएंगे एक टुकड़ा चॉकलेट, तो दूर रहेगी ये गंभीर बीमारियां

अगर आप चॉकलेट खाने के शौकीन हैं तो आपके लिए एक ऐसी खबर है जिसके पढ़ने के बाद चॉकलेट खाना बंद नहीं करेंगे, बल्कि अपनी इस आदत को बरकरार रखेंगे।

साथ ही आप ना सिर्फ हार्ट डिजीज से बच सकते हैं बल्कि इससे डायबिटीज के मरीजों का ब्लड शुगर और इंसुलिन लेवल भी कम किया जा सकता है।

अगर आप चॉकलेट खाने के शौकीन हैं तो आपके लिए एक ऐसी खबर है जिसके पढ़ने के बाद चॉकलेट खाना बंद नहीं करेंगे, बल्कि अपनी इस आदत को बरकरार रखेंगे। हाल ही में की गई एक रिसर्च में पता चला है कि चॉकलेट आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक नहीं बल्कि आपको बड़ी बीमारियों से भी बचा सकती है। अमेरिका की ब्राउन यूनिवर्सिटी की ओर से की गई इस रिसर्च में सामने आया है कि हर दिन एक चॉकलेट का टुकड़ा खाने से आप हर्ट संबंधित बीमारियों से बच सकते हैं। साथ ही आप ना सिर्फ हार्ट डिजीज से बच सकते हैं बल्कि इससे डायबिटीज के मरीजों का ब्लड शुगर और इंसुलिन लेवल भी कम किया जा सकता है।

एक्सपर्ट्स का डार्क चॉकलेट के मुख्य तत्व फ्लावनोल्स के बारे में कहना है कि यह दिल को स्वस्थ रखता है और साथ ही बॉयोमेकर्स के परिसंचलन में सुधार करता है। यूनिवर्सिटी ने 1139 लोगों को चॉकलेट के कई फ्लेवर खिलाकर उनकी कार्डियो मेटाबॉलिक हेल्थ की जांच की। इस जांच में उन्होंने पाया कि ये फायदा उन्हीं लोगों को होगा जो रोजाना 200 से 600 मिलीग्राम के बीच डार्क चॉकलेट खाते हैं। दरअसल, ये फायदा भी इस पर निर्भर करता है कि कोकोआ कितनी मात्रा में लिया गया है। प्लेन चॉकलेट, व्हाइट और अन्य मिल्क चॉकलेट से ज्यादा बेहतर होती है।

READ ALSO: ये हैं सुबह-सुबह किशमिश का पानी पीने के फायदे

यूएसए की ब्राउन यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर ग्लोबल कार्डियोमेटाबॉलिक हेल्थ की डायरेक्टर और प्रोफेसर डॉ. सिमिन लुई का कहना है हमारी कोई भी रिसर्च इस तरह से डिजाइन नहीं कि गई कि जिसमें देखा जाए कोकोआ को यदि सीधेतौर पर लिया जाए तो ये हार्ट अटैक और टाइप 2 डायबिटीज को कम करने में कारगर है या नहीं। वहीं डॉ. सिमिन लुई के साथ ही काम कर रहे ग्रेजुएट स्टूमडेंट जियोचिन लिन का कहना है कि हमने ये पाया है कि कोकोआ फ्लेवैनोल के सेवन से डिस्लिपडेमिया (फर्ड आट्रीज), इंसुलिन रेसिस्टेंस और सिस्टमैटिक इनफ्लैमेशन को कम किया जा सकता है जो कि कार्डियोमेटाबॉलिक डिजीज के फैक्टर हैं।

हेल्थ से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 18, 2016 5:44 pm

सबरंग