December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

10 मिनट रोने के ये फायदे जानते हैं आप?

आइए जानते हैं कि रोने से शरीर को क्या-क्या फायदे होते हैं और यह कैसे आपके लिए लाभदायक है।

दरअसल स्ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल आपके गले में बचैनी पैदा कर देता है और सांसों को धीमा कर देता है।

जब कोई रोता है तो आपको बहुत बुरा लगता होगा या कुछ बुरा लगने पर आप रोते होंगे, लेकिन यह रोना आपके शरीर के लिए फायदेमंद होता है। जब आप रोते हैं या आपकी आंखों से आंसू निकलते हैं तो कई दिक्कतें भी दूर होती है। अगर आप 10 मिनट रोते हैं तो आपको कई तरह के लाभ होते हैं। आइए जानते हैं कि रोने से शरीर को क्या-क्या फायदे होते हैं और यह कैसे आपके लिए लाभदायक है।

आपकी आवाज भारी हो जाती है- आपने अक्सर देखा होगा कि रोने वाले व्यक्ति की आवाज भारी हो जाती है। दरअसल स्ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल आपके गले में बचैनी पैदा कर देता है और सांसों को धीमा कर देता है। गले में बेचैनी होने को ग्लोबस सेंसेशन कहा जाता है और आपको ऐसा महसूस होता है जैसे गला भारी हो गया है।

हाई ब्लड प्रेशर में राहत- मनोचिकित्सकों का कहना है कि रोने से न सिर्फ तनाव कम होता है, बल्कि इसके साथ-साथ हाई ब्लड प्रेशर में भी राहत मिलती है और इस से दिल का दौरा पड़ने के खतरे भी कम हो जाते हैं।

बैक्टीरिया खत्म कर देता है- आंसू आपकी निराशा को बाहर निकालते हैं, इससे आपके मन की सफाई होती है। रोने से दिमाग, दिल और लिंबिक सिस्टम का काम ठीक रहता है।आंसुओं में फ्लूइड लाइसोजाइम तत्व होता है जो सीमेन, म्यूकस, सलाइवा में पाया जाता है, जो दस मिनट में 90 फीसदी बैक्टीरिया खत्म कर सकता है।

READ ALSO:आलू में छिपा है सेहत और सौंदर्य का राज, नियमित खाने से होते हैं कई फायदे

रोने से आपका मन हल्का होता है- रोने से आपको ज्यादा भावुकता से छुटकारा मिलता है। वास्तव में इमोशनल टीयर्स एक ल्यूसीन-एन्केफलिन जारी करता है, ये एक एंडोर्फिन होता है जो आपके मूड को सही करता है और दर्द कम करता है। इससे आपको आराम मिलता है और आप अच्छा महसूस करते हैं।

तनाव से मुक्ति- रोने से व्यक्ति के नकारात्मक विचार निकल जाते हैं और उनकी जगह सकरात्मकता का संचार होता है। इसी वजह से वह हल्का और तनाव रहित महसूस करता है।अगर आप तनाव में हैं और रोते हैं तो आंसुओं के साथ एड्रेनोकॉर्टिकोट्रोपिक और ल्यूसीन जैसे हार्मोन निकलते हैं, जिससे तनाव दूर होता है।

हेल्थ से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

इस दिवाली पटाखों को प्रयोग कम कर अपने फेफड़ों को राहत दें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 28, 2016 9:46 am

सबरंग