ताज़ा खबर
 

एयरलिफ्ट के प्रोड्यूसर बनाएंगे महमूद की हिट फिल्म लाखों में एक का रीमेक

लाखों में एक कॉमिक लेजेंड महमूद को मुख्य भूमिका में लेकर बनाई गई फिल्म थी। इसमें उनका नाम भोला था जो चॉल में कई विपरीत परिस्थितियों के बावजूद सर्वाइव करने में सफल होता है।
Author नई दिल्ली | January 20, 2017 12:38 pm
कॉमेडी किंग महमूद ट्रेनों में टॉफियां बेचकर चलाते थे घर

अबुनदातियां एंटरटेनमेंट के फाउंडर विक्रम मल्होत्रा ने 70 के दशक की हिट फिल्म लाखों में एक के राइट्स खरीद लिए हैं। अब वो इस फिल्म का रीमेक बनाएंगे। सफल प्रोड्यूसर के खाते में एयरलिफ्ट, नूर और नाम शबाना जैसी फिल्में हैं। वो इस पुरानी हिंदी फिल्म को मॉडर्न टच देंगे। यह फिल्म एक अनाथ लड़के के इर्द-गिर्द घूमती है जिसे काफी प्रताड़ित किया जाता है। एक दिन उसे पता चलता है कि वो रईस बाप का बेटा है। ओरिजनल फिल्म को एस एस बालन ने डायरेक्ट किया था जोकि तमिल की फिल्म एथिर नीचल का रीमेक थी।

लाखों में एक कॉमिक लेजेंड महमूद को मुख्य भूमिका में लेकर बनाई गई फिल्म थी। इसमें उनका नाम भोला था जो चॉल में कई विपरीत परिस्थितियों के बावजूद सर्वाइव करने में सफल होता है। वो रोजाना संघर्ष करता है। अपने काम के लिए वो चॉल के हर दरवाजे पर ईनाम पाने के लिए जाता है और कहता है भोला आ गया लेकिन बदले में उसे कुछ नहीं मिलता। फिल्म में प्राण ने शेर सिंह का किरदार निभाया था। जिसके मन में भोला के लिए सॉफ्ट कॉर्नर था। ललिता पवार काफी डिमांडिंग वरिष्ठ नागरिक के किरदार में थी, जोकि गौरी की मां होती है। गौरी का किरदार राधा सलूजा ने निभाया था जिसे भोला में अपना प्यार मिल जाता है। इस फिल्म से लता मंगेशकर और किशोर कुमार का गाया गाना चंदा ओ चंदा था। इसके अलावा जोगी ओ जोगी उस जमाने में काफी हिट हुआ था। यह देखना खास होगा कि प्राण और महमूद का किरदार रीमेक में कौन निभाता है।

बता दें कि महमूद को मनोरंजन-जगत में ‘किंग ऑफ कॉमेडी’ के नाम से जाना जाता है। लेकिन उन्हें इस मुकाम तक पहुंचने में काफी संघर्ष करना पड़ा। जिस किशोर कुमार को उन्होंने बाद में अपने होम प्रोडक्शन की फिल्म पड़ोसन में काम दिया, उन्हीं किशोर कुमार ने महमूद को काम देने से इंकार कर दिया था। महमूद के अभिनय की गाड़ी चली तो फिर ‘भूत बंगला’, ‘पड़ोसन’, ‘बांम्बे टू गोवा’, ‘गुमनाम’, ‘कुंवारा बाप’ जैसी फिल्मों ने महमूद को स्थापित कर दिया।

महमूद का जन्म 29 सितंबर, 1932 को मुंबई में हुआ था। उनके पिता मुमताज अली बॉम्बे टॉकीज स्टूडियो में काम करते थे। घर की आर्थिक जरूरतें पूरी करने के लिए महमूद मलाड और विरार के बीच चलने वाली लोकल ट्रेनों में टॉफियां बेचा करते थे।

अजय देवगन के फैन ने दी सुसाइड करने की धमकी; अजय ने किया मिलने का वादा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग