ताज़ा खबर
 

Tubelight Audience Review: दर्शकों को कुछ खास इंप्रेस नहीं कर पाई सलमान खान की चीनी अभिनेत्री के साथ पहली फिल्म

Tubelight Movie Review: कहा जा सकता है कि फिल्म को लेकर लोगों का एक्साइटमेंट जिस लेवल पर था उस हद तक लोगों को इंप्रेस कर पाने में फिल्म नाकाम रही है।
Author नई दिल्ली | June 23, 2017 11:42 am
Tubelight Movie Teaser: बॉलीवुड स्टार सलमान खान।

कबीर खान निर्देशित फिल्म ट्यूबलाइट सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। सलमान खान की ईद के आसपास रिलीज होने वाली फिल्में आम तौर पर बॉक्स ऑफिस पर कामयाब रहती हैं लेकिन देखना यह होगा कि क्या यह फिल्म भी बॉक्स ऑफिस पर अपना डंका बजा पाती है या नहीं। फिल्म की पहले दिन की कमाई के बारे में आंकड़े बताते हैं कि यह मुश्किल ही प्रेम रतन धन पायो के रिकॉर्ड को तोड़ पाएगी। फिल्म के बारे में सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रिया मिली जुली है। जहां तक सिनेमाघरों से फिल्म देखरकर निकले लोगों की प्रतिक्रिया का सवाल है तो ज्यादातर लोगों ने फिल्म को 4 से 5 स्टार्स दिए हैं और सलमान खान का काम अधिकतर लोगों को पसंद आया है। वहीं कुछ लोगों ने फिल्म को 2 से 3 स्टार देते हुए खराब भी बताया। ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने भी फिल्म को डिसअपॉइंटिंग बताया है।

कहा जा सकता है कि फिल्म को लेकर लोगों का एक्साइटमेंट जिस लेवल पर था उस हद तक लोगों को इंप्रेस कर पाने में फिल्म नाकाम रही है। फिल्म की कहानी की बात करें तो फिल्म की कहानी एक बड़े हो चुके लड़के की है जिसका दिमाग पूरी तरह से विकसित नहीं हुआ है। दूसरे शब्दों में कहें तो ऐसा किरदार जो शरीर से बड़ा हो चुका है लेकिन दिमाग अभी भी बच्चों वाला है। स्क्रीन पर सलमान खान को आप सभी ने कई तरह के किरदार को निभाते हुए देखा होगा और हर बार उन्होंने उसे उम्दा तरीके से निभाया है। कबीर खान की इस फिल्म की बात करें तो इसमें उनके किरदार का नाम लक्ष्मण सिंह बिष्ट है। जिसे पड़ोस के बच्चे ट्यूबलाइट कहकर बुलाते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उसे देर से चीजें समझ आती है। जैसे ट्यूबलाइट जलने में टाइम लगाती है। लेकिन एब बार जलने के बाद वो रौशन रहती है।

इस बार कबीर खान ने चीन को अपनी कहानी में दिखाने में बीड़ा उठाया है। इस फिल्म के जरिए परफेक्ट संदेश देने की कोशिश की गई है। ट्यूबलाइट में सलमान जंगल में नजर आते हैं। लक्ष्मण एक साफ दिल का शख्स है जो ना केवल अपने भाई भरत से प्यार करता है बल्कि अपने पड़ोसियों से भी शांति और युद्ध के दौरान मोहब्बत करने की सीख देता है। यह मायने नहीं रखता कि बॉर्डर क्या है प्यार हर चीज को पराजित कर लेता है। फिल्म की कहानी की बात करें तो मां-बाप के मरने के बाद लक्ष्मण और भरत एक दूसरे का साथ और मदद करते हुए बड़े हुए हैं। स्पेशल होने के बावजूद लक्ष्मण जिंदगी की एक सीख को लेकर जीता है कि अपने विश्वास को हमेशा जिंदा रखना चाहिए। अगर आपको खुदपर विश्वास है तो आप कुछ भी कर सकते हैं। युद्ध रोकने से लेकर चट्टान तक हिला सकते हैं।

फिल्म का पूरा रिव्यू पढ़ने के लिए क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. K
    Kumar
    Jun 23, 2017 at 9:44 pm
    लगता है इस रिपोर्ट लिखने वाले को सलमान ने अभी तक पैसे नहीं पहुचाये...
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग