ताज़ा खबर
 

‘होटल में क्या करने जाती हैं ये ऐक्ट्रेसेज?’ सोशल मीडिया के निशाने पर टिस्का चोपड़ा

टिस्का कहती हैं कि अपने आपको ऐसी स्थिति में पहुंचाने के लिए वह खुद जिम्मेदार होती हैं।
Author नई दिल्ली | October 22, 2017 15:53 pm
टिस्का ने अपने ट्विटर अकाउंट में एक ट्वीट पोस्ट कर लिखा, एक खराब ना का मतलब हां है।

एक्ट्रेस टिस्का चोपड़ा का हाल ही में एक विवादित बयान आया है। इस बयान में टिस्का कह रही हैं कि यौन उत्पीड़ मामलों में महिलाएं भी उतनी ही जिम्मेदार होती हैं जितना की एक पुरुष। लेकिन सारा का सारा दोष पुरुष पर मढ़ दिया जाता है। टिस्का कहती हैं कि अपने आपको ऐसी स्थिति में पहुंचाने के लिए वह खुद जिम्मेदार होती हैं। इन दिनों सोशल मीडिया पर तेजी से #मीटू के नाम से ट्रेंड होने वाले एक अभियान को लेकर टिस्का कहती हैं कि सोशल मीडिया में मी टू नाम का एक अभियान चल रहा है जिसमें वह अपने साथ हुए यौन सोशण के बारे में बता रही हैं।

आम लड़कियों से लेकर जाने माने चेहरे भी इस अभियान का हिस्सा बन रहे हैं। टिस्का ने कहा, ये महिलाएं होटल के कमरों में क्यों जाती हैं फिर, इन्हें उस वक्त अपनी सुरक्षा का ख्याल नहीं होता? एक महिला होने के नाते मैं कहूंगी कि सबसे पहले खुद की मदद करो। टिस्का ने अपने ट्विटर अकाउंट में एक ट्वीट पोस्ट कर लिखा, एक खराब ना का मतलब हां है। इसके बाद टिस्का सोशल मीडिया में ट्रोल होने लगीं।

वहीं यूजर्स ने उन्हें उनके इस ट्वीट के लिए खूब लताड़ भी लगाई। कई ट्विटर यूजर ने टिस्का की अच्छे से खबर लेते हुए उन्हें जवाब में लिखा, ‘सेफ जगह कहां हैं, ऑफिस, कार या घर? यह हरकत कहीं भी हो सकती है।’ वहीं कई लड़कियों ने अपने ट्वीट के जरिए टिस् का पर हमला बोलते हुए कहा कि आपका ये ट्वीट बहुत असंवेदनशील है।

बता दें, कुछ समय पहले टिस्का ने खुद को लेकर एक खुलासा किया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि वह एक फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में एक प्रोड्यूसर के कमरे में पहुंची थीं। उन्होंने कहा था कि प्रोड्यूसर ने मुझे बुलाया और मुझे अपना शिकार बनाना चाहा लेकिन मैं वहां से खुद को बचा कर भाग निकली।

http://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.