January 18, 2017

ताज़ा खबर

 

फैशन इंडस्ट्री में मेल मॉडल्स की फीमेल मॉडल्स की बजाय होती है कम कमाई, जानें क्यों?

उन्होंने बताया कि क्योंकि वह अपनी कीमतें कम नहीं करते हैं इसलिए कई बार उन्हें बड़े शोज से हाथ धोना पड़ता है।

फैशन वीक में रैंप पर वॉक करता मॉडल।

लंदन के टॉप मॉडलिंग एजेंट एलिजाबेथ रोज ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि फैशन इंडस्ट्री शायद ऐसा एकमात्र ऐसा पेशा है जिसमें पुरुषों को महिलाओं से कम पैसे मिलते हैं। सिंडी क्राफोर्ड जैसे मशहूर मॉडल्स के करियर को उड़ान देने वाले एलिजाबेथ का मानना है कि ‘यह बहुत ही अनफेयर है।’ उन्होंने कहा कि ऐसे वक्त में जब महिलाएं लगभग सभी क्षेत्रों में अपने समकक्षों के बराबर तनख्वाह की मांग कर रही हैं, शायद ग्लैमर इंडस्ट्री ऐसा इकलौता काम है जिसमें महिलाएं पुरुषों से ऊपर हैं। अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में पिछले 11 साल से मॉडलिंग इंडस्ट्री में काम कर रहे अमित रंजन के हवाले से लिखा है, ‘बॉलीवुड में मामला जरा अलग है। बॉलीवुड में 50 साल से भी ज्यादा उम्र के लोग भी लीड रोल में नजर आ जाएंगे। लेकिन फैशन इंडस्ट्री फीमेल ओरिएंटेड है। हालत यह है कि कुछ पुरुष मॉडल्स मुफ्त में भी रैंप पर वॉक करने को तैयार हैं। किसी भी फैशन वीक में 4-5 ही मेल मॉडल्स होते हैं और 16-17 फीमेल मॉडल्स होती हैं। दिक्कत यह है कि मांग कम है, और सप्लाई ज्यादा है।’

रिपोर्ट में इंडस्ट्री के सूत्रों के हवाले से लिखा है, ‘जहां एक अपकमिंग फीमेल मॉडल की एक शो की कमाई 10 से 15 हजार रुपए होती है, वहीं मेल मॉडल्स को इसके लिए सिर्फ 6 से 8 हजार रुपए ही मिलते हैं। वहीं अनुभवी फीमेल मॉडल को 45 हजार से 50 हजार मिलते हैं वहीं अनुभवी मेल मॉडल 30 हजार रुपए से ज्यादा नहीं कमा पाते हैं।’

बता दें, फैशन इंडस्ट्री के उल्ट बॉलवुड में महिलाओं की बजाए पुरुष अभिनेताओं को ज्यादा फीस मिलती हैं। यह हाल ना केवल बॉलीवुड का है बल्कि हॉलीवुड सहित सभी देशों की फिल्म इंडस्ट्री के साथ यह हाल है। जहां एक अभिनेता को करोड़ो रुपए फीस मिलती हैं, वहीं एक अभिनेत्री की फीस कई बार तो उससे आधी ही होती है। यह सवाल की बार कई मंचों से उठाया जा चुका है, फिल्म इंडस्ट्री में  महिला कलाकारों की फीस कम क्यों होती है।

Read Also: BIGG BOSS 10 में सेलेब्रिटी स्टार्स को टक्कर देगा आदमी, 16 अक्टूबर को होगा ग्रांड प्रीमियर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 8:02 pm

सबरंग