December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

कुछ रंग प्यार के ऐसे भी 27 अक्टूबर फुल एपिसोड: नेहा ने किया रनबीर तलाक देने का फैसला

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Full Episode: नेहा जिद पर अड़ी हुई है कि उसे रनबीर के घर नहीं जाना है। रनबीर सोनाक्षी और ईश्वरी के काफी समझाने पर भी वो समझने को तैयार नहीं होती है। वो रनबीर से कह देती है कि वो अब कभी उस घर में वापस नहीं आना चाहती है।

सोना, नेहा को रबीर को लेकर समझाती है

‘सोनी’ पर प्रसारित होने वाले शो ‘कुछ रंग प्यार के ऐसे भी’ के 27 अक्टूबर के एपिसोड में ईश्वरी, रनबीर से उसके घर के बारे में पूछती है। मामीजी कहती हैं कि उन्हें नेहा से मिलने पहले ही आना चाहिए था। रनबीर कहता है कि उसने नेहा से बातें करने की कोशिश की लेकिन उसने कभी रिस्पॉन्स नहीं किया। सोनाक्षी, नेहा से कहती है कि वो रनबीर से आकर बात कर सकती है। नेहा उसे कहती है कि वो उसका पर्सनल मैटर है और वो उससे इस बारे में ना बोलें। ईश्वरी भी नेहा को मनाती है। लेकिन नेहा किसी की बात नहीं सुनती है। वो कहती है कि रनबीर ने कभी उसकी इज्जत नहीं की। नेहा, देव से रनबीर को कम्पेयर करती है। वो कहती है कि रनबीर को देव से लोन लेकर अपना अलग फ्लैट ले लेना चाहिए। ये सुन कर रनबीर कहता है कि वो उसे अपने भाई से कम्पेयर कर रही है। रनबीर कहता है कि उसके संस्कार में नहीं है कि वो अपने परिवार से अलग होकर रहे। नेहा कहती है कि वो अगर उसकी बात नहीं मानते हैं तो वो उस घर में कभी वापस नहीं जाएगी। रनबीर के ये पूछने पर कि क्या ये उसका आखिरी फैसला है नेहा हां कहती है।

 

नेहा अपना सामान पैक करती है। वो सोना को कहती है कि वो चाहती है कि वो यहां से चली जाए तभी वो यहां रनबीर को लेकर आई है। सोना कहती है कि देव पहले उसके भाई है और इस घर पर उसका पहले हक है। वो कहती है कि उन दोनों की दोस्ती नहीं हुई है लेकिन वो दोनों अच्छे से रह सकते हैं। नेहा कहती है कि उसके पास इतने पैसे हैं कि वो कुछ हफ्ते होटल में जाकर रह लेगी। ईश्वरी भी नेहा से आकर कहती है कि देव को उसके त्याग का पूरा एहसास है और देव की जायदाद पर उन बहनों का बराबर का हक है। ईश्वरी, सोना को कहती है कि उसे रनबीर को घर नहीं लाना था। क्योंकि अभी बात करने का वक्त नहीं है। मामी जी भी बोलती है कि सोनाक्षी, नेहा को घर से भगाना चाहती है इसलिए वो रनबीर को यहां लेकर आई। सोना कहती है कि उसे भी इस घर की चिंता है और पहल तो करनी ही थी। ईश्वरी कहती है कि वो नेहा की जिद को समझती है और वो अभी किसी से बात करने को तैयार नहीं है। सारी बातें सुन रहा देव कहता है कि वो नेहा से बात करेगा। ईश्वरी उसे भी कहती है कि वो क्यों नहीं समझ रहा कि नेहा किसी से बात करने को तैयार नहीं है।

इधर सौरभ की मम्मी उसके पापा से कहती है कि सौरभ की जॉब देव की कंपनी में लग जाए। वो कहते हैं कि वे उनके यहां का एहसान और हेल्प नहीं लेना चाहते। सोनाक्षी कमरे में लैपटॉप पर काम कर रही है। देव वहां आता है। वे दोनों नेहा को लेकर बात करते है। सोना कहती है कि जब तक नेहा और रनबीर के बीच बात नहीं होती कुछ नहीं हो सकता। देव उसे कहता है कि इसमें उसकी कोई गलती नहीं है। वो सोना को कहीं चलने के लिए रेडी होने को कहता है। सोना के पूछने पर देव कहता है कि उसकी उसी तरफ एक मीटिंग है और वो उसे रास्ते में उसके मां बाबा के यहां ड्रॉप कर देंगे और आते वक्त उसे साथ में लेता आयेगा।

वहां पहुंचने पर सोना की मां खुश होती है कि उसे खाना बनाना भी आ गया। वो अपने बाबा को कहती है कि उसे ससुरालवाले काफी दुख देते हैं। इस पर सोना के पापा ईश्वरी को पूछने के लिए फोन करने वाले ही होते हैं कि सोना और उसकी मां दोनों हंस पड़ते हैं। सोना, घर पर अपने भाई सौरभ और बहने के बारे में पूछती है कि वो उन्हें कभी कॉल भी नहीं करते और कोई ढंग से बात भी नहीं करते। तभी वहां सौरभ आता है। वो कहता है कि उसके क्लायंट ने उसके पीछे कुत्ते छोड़ दिए और कुत्ते ने उसे हर्ट किया। सौरभ, सोना को अपने बिजनेस में नुक्सान के बारे में बताता है। वो कहता है के वो परेशान ना हो इसलिए उससे बात नहीं कर रहा था।

Read Also:

‘कुछ रंग प्यार के ऐसे भी’ में ईश्वरी को हुआ सोनाक्षी के लिए अपने बर्ताव पर पछतावा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 27, 2016 10:31 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग