ताज़ा खबर
 

Lipstick Under My Burkha Box Office: कोंकणा सेन शर्मा और रत्ना पाठक शाह की फिल्म ने बनाया रिकॉर्ड

Lipstick Under My Burkha Box Office Collection: लिपस्टिक अंडर माय बुर्का का लगभग हर शो 60 प्रतिशत दर्शकों से भरा हुआ था। फिल्म की स्टार कास्ट की बात करें तो इसमें कोंकणा सेन शर्मा, रत्ना पाठक शाह, प्लाबिता बोरथाकुर और आहाना कुमरा लीड रोल में हैं।
Lipstick Under My Burkha: फिल्म की कहानी चार महिलाओं की है, जो भोपाल में ही रहती हैं।

लिपस्टिक अंडर माय बुर्का ने अपने रिलीज के लिए एक काफी लंबी लड़ाई लड़ी है। कई अंतर्राष्ट्रीय समारोहों में अवॉर्ड जीत चुकी यह फिल्म काफी जद्दोजहत के बाद 21 जुलाई को आखिरकार रिलीज हुई। इस फिल्म ने ओपनिंग डे पर 1.22 करोड़ रुपए कमाए। इस कमाई के साथ ही यह भारतीय इतिहास में छोटे फिल्म फेस्टिवल में अवॉर्ड जीतने के बाद इतनी ज्यादा कमाई करने वाली पहली फिल्म बन गई है। फिल्म देशभर के केवल 400 स्क्रीन्स पर रिलीज की गई है। टिकट खिड़की पर इस फइल्म ने सभी रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। महिलाओं पर केंद्रित होने के बावजूद फिल्म ने इतनी कमाई करके एक रिकॉर्ड बना दिया है।

ऐसा लगता नहीं है कि किसी ट्रेड पंडित को फिल्म के इतनी कमाई करने की आशा रही होगी। फिल्म का लगभग हर शो 60 प्रतिशत दर्शकों से भरा हुआ था। फिल्म की स्टार कास्ट की बात करें तो इसमें कोंकणा सेन शर्मा, रत्ना पाठक शाह, प्लाबिता बोरथाकुर और आहाना कुमरा लीड रोल में हैं। शुरुआत से ही फिल्म को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा था। पावरफुल परफॉर्मेंस, दमदार डायलॉग की वजह से यह फिल्म मस्ट वॉच बनती है। आखिर में इस फिल्म के साथ एकता कपूर जुड़ी और बहुत से टीवी एक्टर्स ने इसका सपोर्ट किया। वहीं फिल्म के कंटेंट से क्रिटिक्स काफी इंप्रेस हुए।

कहानी चार औरतों और उनकी जिंदगी के इर्द-गिर्द घूमती है। यह वह आम औरते हैं जो अपने घर परिवार के काम-काज करने के बीच अपने आपको भी ढूंढने की कोशिश करती हैं, कभी अपने ख्यालों में तो कभी कमरे में अकेले शीशे के आगे बैठ कर। कहानी में इन महिलाओं की फैंटेसी को दिखाया गया है। चारों महिलाएं भोपाल में ही रहती हैं। एक प्वॉइंट पर आकर इन महिलाओं की जिंदगी कैसे मिलती है। किस तरह से ये महिलाएं एक चार दीवार में रह कर जिंदगी गुजार रही हैं और वह उनसे किस तरह से बाहर निकलने की कोशिश करती हैं, फिल्म में दिखाया गया है।

इस दौरान वह अपने ख्यालों में अंतरंग सपने भी बुनती हैं, तरह-तरह की फैंटेसीज भी करती हैं। रत्ना पाठक फिल्म में बुआ जी का किरदार निभा रही हैं। वहीं कोंकणा सेन फिल्म में तीन बच्चों की मां बनी हुई हैं। फिल्म में उनके पति बने सुशांत सिंह एक ऐसे आदमी का किरदार निभा रहे हैं जो औरत को पैरों की जूती समझता है और हमेशा अपनी पत्नी से एक ही बात कहता है ‘औरत हो औरत ही बन कर रहो।

http://www.youtube.com/watch?v=U5Gyw-nGf1I

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.