ताज़ा खबर
 

जान लीजिए, मनोज कुमार को क्यों आज भी कहा जाता है भारत कुमार

फैशन नाम की फिल्म से सिनेमाई दुनिया में कदम रखा। लेकिन कुछ खास बात नहीं बनी। खाफी संघर्ष किया। फिर...

अपने यहां फिल्मों और देशभक्ति का पुराना नाता रहा है। देश और देश प्रेम पर फिल्म भी कई बनीं हैं। लेकिन जब भी इस पर बात होती है, तो एक नाम और सामने आता है। वह है मशहूर एक्टर मनोज कुमार का। आपने उन्हें देशभक्ति और खेती-किसानी से जुड़े मुद्दों पर बनी फिल्मों में देखा होगा। आप यह भी सुना होगा कि वह भारत कुमार के नाम से भी जाने जाते हैं। लेकिन अधिकतर लोगों को इसके पीछे का कारण नहीं पता।

आइए जानते हैं, उन्हें क्यों कहा जाता है भारत कुमार। मनोज कुमार का असली नाम हरि किशन गोस्वामी है। जब वह 12 साल के थे, तब उन्होंने एक बार दिलीप कुमार की फिल्म शबनम देखी।

यहीं से तय किया कि वह भी एक्टर बनेंगे। इतना ही नहीं, उन्होंने अपने लिए फिल्मी नाम भी सोच लिया था, जो मनोज कुमार था। वह इसके बाद अपनी किस्मत आजमाने मुंबई आ गए।

फैशन नाम की फिल्म से सिनेमाई दुनिया में कदम रखा। लेकिन कुछ खास बात नहीं बनी। खाफी संघर्ष किया। फिर ‘हरियाली’ और ‘रास्ता’ मिलीं। ये दोनों फिल्में चलीं। लोकप्रिय होना भी लाजिमी था।

इसके बाद उन्होंने फिल्म शहीद बनाई। एक्टिंग के साथ डायरेक्शन भी संभाला। इसमें भगत सिंह के किरदार को निभाया। तत्कालीन पीएम लाल बहादुर शास्त्री ने फिल्म देखी। उन्हें फिल्म पसंद आई, तो उन्होंने किसानों पर फिल्म बनाने की सलाह दी।

मनोज ने इसके बाद फिल्म उपकार की कहानी लिखी। किसानों और शहीदों की कहानी को सिल्वर स्क्रीन पर दिखाया। इसमें वह एक सैनिक के साथ किसान के किरदार में नजर आए थे। फिर फिल्म बनाई पूरब और पश्चिम। जिसमें दिखाया गया कि कैसे लोग विदेश पलायन कर रहे हैं। वहीं से उन्हें नाम मिला था- भारत कुमार।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग