ताज़ा खबर
 

केबीसी में 5 करोड़ रुपए जीतने वाले सुशील कुमार करते हैं दूध का धंधा, 40 नक्सली बच्चों को दे रहे थे मुफ्त शिक्षा!

केबीसी में कई लोगों ने करोड़ों रुपए जीते। इस दौरान सुशील कुमार ने केबीसी में 5 करोड़ की भारी रकम जीत कर केबीसी के इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया।
सुशील बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के मोतिहारी के रहने वाले हैं। साल 2011 में सुशील ने केबीसी के सीजन 5 में पांच करोड़ रुपए जीते थे।

टीवी शो ‘कौन बनेगा करोड़पति‘ ने कई लोगों की सोई हुई किस्मत को जगाया। इस दौरान शो में भाग लेने वाले लोगों की हिंदी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन से मिलने की ख्वाहिश भी पूरी हुई। केबीसी में कई लोगों ने करोड़ों रुपए जीते। इस दौरान सुशील कुमार ने केबीसी में 5 करोड़ की भारी रकम जीत कर केबीसी के इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया।

सुशील बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के मोतिहारी के रहने वाले हैं। साल 2011 में सुशील ने केबीसी के सीजन 5 में पांच करोड़ रुपए जीते थे। इस दौरान उन्होंने बताया था कि वह इस राशी से अपने घर की छत की मरम्मत कराएंगे।

 Kaun Banega Crorepati, KBC winner Sushil Kumar, KBC winner Sushil Kumar drawing milk, sushil kumar selling milk, entertainment news, bollywood news, amitabh bachchan, kbc amitabh bachchan, bollywood news, Kaun Banega Crorepati, KBC winner Sushil Kumar, KBC winner Sushil Kumar drawing milk, bollywood news, entertainment news in hindi, bollywood updates in hindi, bollywood news, television news in hindi, entertainment news in hindi, bollywood updates in hindi, bollywood news

सुशील पेशे से एक कंप्यूटर ऑपरेटर हैं। वह महात्मा गांधी नेशनल रूरल एंप्लॉइमेंट गारंटी एक्ट में काम करते थे। उनकी महीने भर की सैलरी करीब 6000 हुआ करती थी। केबीसी के बाद उनकी किस्मत पलटी और वह रातों-रात करोड़पति हो गए। सुशील ने इस शो के माध्यम से 5 करोड़ कमाए। इस दौरान टैक्स काट कर उन्हें 3.5 करोड़ रुपए की धनराशी ही मिली। इसके बाद बचे पैसे से उन्होंने अपने घर की मरम्मत कराई, वहीं अपने भाइयों के लिए बिजनेस में भी उन्होंने इनवेस्ट किया। इसके अलावा उन्होंने मोतिहारी में ही अपनी मां के नाम पर एक जमीन भी खरीदी। इसके अलावा सुशील के पास चार गाएं हैं। सुशील दूध का व्यापार भी करते हैं।

वहीं सुशील ने अब स्क्रिप्ट लिखने का काम भी शुरू कर दिया है। सुशील के पास बीएड की डिग्री है। इसके बाद अब वह अपने बिजनेस संभालने के साथ-साथ गरीब बच्चों को साक्षर बनाने का काम भी कर रहे हैं। डीएनए की 2016 की एक रिपोर्ट के अनुसार, सुशील ने 40 बच्चों को गोद लिया। इसी के साथ ही उन्हें पढ़ाने की जिम्मेदारी उठाई। ये 40 बच्चे नक्सलवाद क्षेत्र से थे। सुशील ने इनका एक साल के लिए मुफ्त पढ़ाई लिखाई का जिम्मा उठाया

इससे पहले मीडिया में सुशील के कंगाल होने की खबर आई थी। वहीं इस बात को क्लियर करते हुए सुशील ने बताया कि, ‘ऐसा नहीं है, मुझसे आए दिन ये सवाल पूछा जाने लगा था कि मैं जीती गई 5 करोड़ की धनराशी का क्या करूंगा। इस दौरान मुझे एक जर्नलिस्ट का कॉल आया। उसने भी यही सवाल पूछा, इसके बाद मैंने जवाब में कह दिया, ‘नहीं हैं अब कुछ, पैसे खत्म हो गए’। इसके बाद यही जवाब हर जगह सुर्खियां बन गया।’

http://www.youtube.com/watch?v=U5Gyw-nGf1I

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग