ताज़ा खबर
 

बैन नहीं सस्पेंड हुई है रणबीर कपूर की फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’

Ae Dil Hai Mushkil Release Ban: द सिनेमा ओनर्स एंड एक्सहिबिटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओईएआई) का किसी भी पाकिस्तानी कलाकार की फिल्म को सिंगल स्क्रीन थिएटर्स में रिलीज नहीं किए जाने का फैसला निर्देशक करण जौहर की फिल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' के लिए भारी पड़ सकता है।
Author नई दिल्ली | October 15, 2016 11:40 am
ऐ दिल है मुश्किल फिल्म के एक सीन में पाकिस्तानी अभिनेता फवाद खान।

द सिनेमा ओनर्स एंड एक्सहिबिटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओईएआई) का किसी भी पाकिस्तानी कलाकार की फिल्म को सिंगल स्क्रीन थिएटर्स में रिलीज नहीं किए जाने का फैसला निर्देशक करण जौहर की फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ के लिए भारी पड़ सकता है। बता दें कि फिल्म में पाकिस्तानी कलाकार फवाद खान अहम भूमिका में हैं। हाल ही में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) और इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स असोसिएशन (आईएमपीपीए) ने यह घोषणा की थी कि वे पाकिस्तानी अभिनेताओं को भारतीय फिल्म जगत के कारोबार में बैन कर देंगे। हालांकि अब आईएमपीपीए ने मनसे से यह रिक्वेस्ट की है कि वह ‘ऐ दिल है मुश्किल’ और ‘रईस’ जैसी फिल्में जो पूरी हो चुकी हैं, कम से कम उन्हें तो रिलीज होने दिया जाए।

द इंडियन एक्सप्रेस ने इस बारे में सीओईएआई के प्रेसिडेंट नितिन डागर से इस बारे में एक्सक्लूसिव बातचीत की। तो आइए आपको बताते है कि एक्सप्रेस के सवालों के जवाब में नितिन ने क्या कुछ कहा।

क्या फैसला लिया गया है? क्या बैन लगा है?
कोई बैन नहीं लगा है। हमने बस पाकिस्तानी कलाकारों और टेक्निशियन्स वाली फिल्मों को स्थगित कर दिया है। हमारा फैसला बस यह है कि हम अपने सिनेमाघरों में फिल्मों को रिलीज नहीं करेंगे, और न ही दिखाएंगे।

क्या एसोसिएशन के पास फिल्मों के रिलीज को स्थगित करने की पावर है?
यह हमारा विशेषाधिकार है कि हम फिल्म को रिलीज करें या नहीं। डिस्ट्रिब्यूटर का विशेषाधिकार यह है कि वह किसी प्रदर्शक को फिल्म दे या नहीं।

क्या वे आपके फैसले को मानने के लिए बाध्य हैं?
हमने सिर्फ उनसे रिक्वेस्ट किया है।

तो आपने पाकिस्तानी कलाकारों वाली फिल्मों के रिलीज को रोकने के लिए रिक्वेस्ट की है?
हां, हमारी सभी मेंबर्स से यह रिक्वेस्ट है कि भारतीय जनता की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए फिल्म को रिलीज नहीं करें। यह पिछले एक महीने से उरी हमले और बॉर्डर पार गोलीबारी के चलते हो रहा है। भारतीय लोगों की भावनाएं पाकिस्तानी फिल्मों के विरोध में है। पाकिस्तान ने पहले ही हमारा हिंदी कंटेंट उनके सैटेलाइट पर बैन कर दिया है। हमने अब तक वह नहीं किया है। हमने जनता में देशभक्ति की भावना का प्रसार करते हुए, पाकिस्तानी कलाकारों वाली फिल्मों को रोकने का फैसला किया है। जनता इस बात से खुश होगी कि एसोसिएशन ने यह फैसला लिया है।

क्या फिल्म के प्रसारक आपकी एसोसिएशन के फैसले से सहमत हैं?
प्रसारक मान गए हैं और इसीलिए हमने यह फैसला लिया है।

लेकिन आपके इस फैसले से जिस आदमी का नुकसान होगा वह करण जौहर है, और वह एक भारतीय हैं?
क्या हमारा नुकसान नहीं हो रहा है। क्या प्रसारकों का नुकसान नहीं हो रहा है। यदि लोगों ने थिएटर्स को नुकसान पहुंचाया तो क्या होगा। क्या करण जौहर भुगतान करेंगे। कौन भुगतान करेगा।

आपकी करण जौहर के लिए क्या राय है?
करण जौहर के लिए मेरी राय है कि वह कुछ दिन और इंतिजार करें। चीजों को ठीक होने दें। लेकिन यह पूरी तरह से उन्हीं के हाथ में है कि उन्हें क्या करना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग