ताज़ा खबर
 

कमल हासन ने शेयर किया ‘पुलिस द्वारा’ की गई तोड़फोड़ का वीडियो, कहा- अपनी फिल्मों और जल्लीकट्टू पर बैन के खिलाफ हूं

तमिल एक्टर और फिल्म निर्माता-निर्देशक कमल हासन ने विवादित खेल जल्लीकट्टू का समर्थन किया और पुलिस द्वारा खेल के खिलाफ की गई कार्रवाई पर सवाल उठाए।
Author नई दिल्ली | January 24, 2017 12:02 pm
कमल ने कहा, मेरा लक्ष्य बेहतर तमिलनाडु है। कौन मेरी आवाज को मजबूत करने की हिम्मत जुटाता है?

तमिल एक्टर और फिल्म निर्माता-निर्देशक कमल हासन ने विवादित खेल जल्लीकट्टू का समर्थन किया और पुलिस द्वारा खेल के खिलाफ की गई कार्रवाई पर सवाल उठाए। उन्होंने एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा- जल्लीकट्टू को बैन नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि मैं किसी भी तरह के बैन के खिलाफ हूं, चाहे वह मेरी फिल्मों पर बैन हो या मेरे बुल्स पर। कमल ने कहा कि मैं किसी एक विशेष पॉलिटिकल पार्टी का विरोध नहीं कर रहा हूं। मैं पूरे सिस्टम और मीडिया को देख रहा हूं। उन्होंने कहा कि यह सब अचानक से नहीं हो सकता। मुझे लगता है कि हमें वजह ढूंढनी होगी। मैं किसी भी पार्टी के रंग में रंगा नहीं जा सकता। मैं वहां विरोध में शामिल हुए बच्चों और महिलाओं के लिए बहुत चिंतित हूं। कमल ने कहा कि उन्हें इस सब के पीछे कोई षणयंत्र नजर नहीं आता। उन्होंने कहा- मुझे लगता है कि इसे बहुत ज्यादा बढ़ा-चढ़ा कर पेश कर दिया।

गौरतलब है कि जल्लीकट्टू को लेकर तमिलनाडु में प्रदर्शन बहुत हिंसक हो गया है। पुलिस ने जलीकट्टू के आयोजन के स्थायी समाधान की मांग को लेकर पिछले एक सप्ताह से मरीना बीच पर प्रदर्शन कर रहे सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को सोमवार तड़के हटाना शुरू कर दिया, जिसके बाद भीड़ का गुस्सा भड़क गया। इसके बाद 50 प्रदर्शनकारियों ने आइस हाउस पुलिस स्टेशन में आग लगा दी और 15 गाड़ियों को फूंक दिया। विरोध कर रहे लोगों ने पुलिस स्टेशन पर पत्थर भी फेंके। बताया जा रहा है कि पत्थरबाजी में 22 पुलिसवाले घायल हुए हैं। राज्यों के अन्य हिस्सों से भी हिंसा की खबरें आ रही हैं। टाइम्स अॉफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की कार्रवाई के दौरान मानवश्रंखला बनाकर अपना विरोध जताया।

पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज करना शुरू कर दिया। ऐसे में स्थिति और बेकाबू हो गई और प्रदर्शनकारी आगजनी व हिंसा पर उतारू हो गए।  पुलिस ने प्रदर्शकारियों को वहां से खदेड़ा और आग बुझाने का काम शुरू किया गया। प्रदर्शनकारियों ने टायरों में आग लगाकर उन्हें पुलिस स्टेशन की तरफ फेंकना शुरू कर दिया। जवाब में पुलिस ने भी प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले दागे। एमटीसी की बसों पर भी शहर में कई जगह पत्थरबाजी हुई है जिसमे कुछ यात्रियों को चोटें आई हैं। बता दें कि राज्य सरकार ने अध्यादेश लाकर कई स्थानों पर रविवार को जल्लीकट्टू का आयोजन करवाया,लेकिन अध्यादेश से नाखुश प्रदर्शनकारी मुद्दे का स्थायी समाधान चाहते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.