ताज़ा खबर
 

जावेद अख्तर ने किया संजय लीला भंसाली का समर्थन, रानी पद्मावती को बताया पूरी तरह काल्पनिक किरदार

मशहूर लिरिक्स राइटर जावेद अख्तर ने पद्मावती प्रकरण में बॉलीवुड फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली का समर्थन किया है।
Author नई दिल्ली | January 31, 2017 13:41 pm
मशहूर लेखक जावेद अख्तर ने करण के बच्चों के लिए कुछ खास किया है।

मशहूर लिरिक्स राइटर जावेद अख्तर ने पद्मावती प्रकरण में बॉलीवुड फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली का समर्थन किया है। जावेद के मुताबिक जिस रानी पद्मावती को लेकर संजय लीला भंसाली के सेट पर कथित करणी सेना द्वारा तोड़-फोड़ की गई और उन्हें पीटा गया, फिल्म की कहानी में वह महज एक फिक्शन कैरेक्टर हैं। जावेद के हालिया ट्वीट्स में उन्होंने लिखा- खिलजी मुगल नहीं था। असल में वे मुगल वंश से 200 साल पहले अस्तित्व में थे। अपने दूसरे ट्वीट में जावेद ने लिखा- पद्मावती असल में मलिक मोहम्मद जायसी के द्वारा अकबर के काल खंड में लिखा गया पहला हिंदी नॉवेल था। यह इतिहास नहीं है बल्कि सलीम और अनारकली की तरह पूरी तरह फिक्शन है।

अब सवाल यह उठ रहा है कि हाल ही में भंसाली द्वारा राजपूतों को लिखे गए लेटर में जहां उन्होंने यह दावा किया है कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की जाएगी, वहीं जावेद ऐसा दावा कर रहे हैं कि फिल्म के किरदार का असल में इतिहास से कुछ लेना-देना ही नहीं है। बकौल जावेद, रानी पद्मावती का किरदार पूरी तरह काल्पनिक है। गौरतलब है कि संजय जिस वक्त राजस्थान में फिल्म की शूटिंग कर रहे थे तभी कथित करणी सेना के कुछ लोगों ने आकर सेट पर तोड़-फोड़ की थी। हंगामा कर रहे लोगों का आरोप था कि संजय फिल्म में रानी पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच कुछ इंटिमेट सीन दिखा रहे हैं।

संगठन के लोगों ने दावा किया था कि फिल्म रानी पद्मावती से जुड़े इतिहास से छेड़छाड़ है। हमले के बाद निर्देशक ने पद्मावती का जयपुर का शूट कैंसिल कर दिया था और वापस मुंबई चले गए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक यह फैसला भंसाली ने सेट पर हुए हमले के बाद लिया था। सीबीएफसी के अध्यक्ष पहलाज निहलानी का कहना है कि फिल्मकार संजय लीला भंसाली ने अपनी फिल्मों के जरिए भारतीय पर्यटन को काफी बढ़ावा दिया है। भंसाली पर जयपुर में हाल ही में हुए हमले की निंदा करते हुए निहलानी ने कहा कि यह घटना राजस्थान पर्यटन के लिए एक बड़ा झटका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.