ताज़ा खबर
 

लाइफटाइम लिविंग लीजेंड अवॉर्ड से सम्मानित हुए एक्टर दिलीप कुमार, देखें फोटोज

इस महीने की शुरुआत में खबर थी कि दिलीप कुमार की तबीयत ठीक नहीं है। इसके बारे में उन्होंने बताया- भगवान की कृपा और आपकी प्रार्थना से मैं ठीक हूं।
Author नई दिल्ली | April 12, 2017 15:19 pm
दिलीप कुमार को सम्मानित करते पंजाब एसोसिएशन के सदस्य। (Image Source: Twitter)

बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री के वरिष्ठ एक्टर दिलीप कुमार को मंगलवार को उनके निवास पर पंजाब एसोसिएशन की ओर से लिविंग लीजेंड लाइफटाइम अवार्ड से सम्मानित किया गया। 94 साल के एक्टर ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से मंगलवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि पंजाब एसोसिएशन के रणबीर सिंह चंडोक और आनंद आज (मंगलवार) घर आए। भगवान दयालु है। पंजाब एसोसिएशन की ओर से लिविंग लीजेंड लाइफटाइम अवार्ड से सम्मानित होकर गौरवान्वित हूं। इस पोस्ट के साथ उन्होंने फोटो भी शेयर की। इसमें दिलीप कुमार थोड़े कमजोर दिख रहे है। फोटोज में उनकी पत्नी सायरा बानो के साथ ही वह अधिकारी भी थे, जिन्होंने एक्ताटर को सम्मानित किया है।

इस महीने की शुरुआत में खबर थी कि दिलीप कुमार की तबीयत ठीक नहीं है। इसके बारे में उन्होंने बताया- भगवान की कृपा और आपकी प्रार्थना से मैं ठीक हूं। बस पीठ दर्द से परेशानी है। कुमार को आखिरी बार बड़े पर्दे पर साल 1998 में आई फिल्म ‘किला’ में देखा गया था। दिलीप कुमार को 1998 में दादा साहब फाल्के पुरस्कार और 2015 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया जा चुका है। बता दें कि कुछ दिनों पहले जानी-मानी कथा-पटकथा एवं संवाद लेखिका डॉ. अचला नागर ने कहा था कि साल 2003 में सर्वाधिक पसंद की गई हिन्दी फिल्मों में से एक ‘‘बागबान’’ के मुख्य किरदार को 20 साल पहले अभिनेता दिलीप कुमार के लिए लिखा गया था जिन्होंने अपनी उम्र की अभिनेत्री न होने का हवाला देते हुए फिल्म में काम करने से मना कर दिया था।

बाद में वह भूमिका अमिताभ बच्चन ने निभाई और यह भावना प्रधान फिल्म बॉक्स आॅफिस पर हिट रही। ‘‘बागबान’’ की कथा-पटकथा एवं संवाद डॉ. अचला नागर ने ही लिखे थे। इस फिल्म में युवा पीढ़ी द्वारा बुजुर्गों की उपेक्षा किए जाने की समस्या को उकेरा गया था। मथुरा में अचला नागर द्वारा स्थापित रंगकर्मी संस्था ‘‘स्वास्तिक रंगमण्डल’’ की स्थापना के 40 वर्ष पूरे होने के अवसर पर शहर आईं अचला ने बताया कि ‘‘बागबान’’ के निर्माता बीआर चोपड़ा ने 20 वर्ष पहले इस किरदार के लिए अपने प्रिय कलाकार दिलीप कुमार को चुना था।

उस वक्त  दिलीप कुमार ने फिल्म के लिए उनके ही कद की (यानि बराबर की उम्र और नामवर) अभिनेत्री न होने का हवाला देते हुए कहा था कि अब न तो नरगिस रहीं, और न ही मीनाकुमारी। राखी भी अब काम नहीं करतीं तो ऐसे में और किसी के साथ जोड़ी कहां बन पाएगी।

अस्पताल से डिस्चार्ज हुए दिलीप कुमार; टांग में सूजन की शिकायत के कारण थे भर्ती

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग