May 29, 2017

ताज़ा खबर

 

‘स्वीटी देसाई वेड्स एनआरआई’ से नहीं हटाई जाएगी आतिफ की आवाज

हसनैन के मुताबिक देश में जो कुछ गलत हो रहा है उसके लिए किसी कलाकार को जिम्मेदार ठहराना गलत है। एकदम से चीजें बदल गईं और उन्हें देश वापिस लौटने के लिए कह दिया गया। हमें पाकिस्तानी कलाकारों को समझना चाहिए।

आतिफ असलम के फैंस के लिए आई खुशखबरी। नहीं हटेगा फिल्म से गाना। Image Source: Instagram

पाकिस्तानी कलाकारों पर जारी विवाद के बीच बॉलीवुड के गलियारों से एक अच्छी खबर आई है। ‘पहली नजर में’ गाने के गायक यानि आतिफ की आवाज को फिल्म ‘स्वीटी देसाई वेड्स एनआरआई’ से नहीं हटाया जाएगा। दरअसल. इस फिल्म में उन्होंने मुसाफिर गाने को अपनी आवाज दी थी। इसमें हिमांश कोहली और जोया अफरोज प्रमुख भूमिकाओं में नजर आएंगे। फिल्म के निर्देशक हसनैन हैदराबादवाला ने इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि अभी तक हमने यही निर्णय लिया है कि फिल्म से आतिफ की आवाज नहीं हटाई जाएगी। यहां तक कि हमारे निर्माता भी इस बारे में नहीं सोच रहे हैं। हमने मार्च 2016 में इस गाने को रिकॉर्ड किया था। उस वक्त ये विवाद नहीं उठा था। चीजें एकदम सामान्य थी। गाने को आतिफ के पास भेज दिया गया था। जिसे उन्होंने कराची में रिकॉर्ड किया था। उनके साथ पलक मुच्छल ने इस गाने को आवाज दी है।

पाकिस्तानी कलाकारों के भारत में काम करने पर बोले नाना पाटेकर, कहा- ‘कलाकार देश के सामने खटमल की तरह’

प्रोडक्शन हाउस ने इस गाने को अरिजीत सिंह की आवाज में भी रिकॉर्ड किया है और वो दोनों ही वर्जन रिलीज करेंगे। जब उनसे पूछा गया कि क्या वो भविष्य में आतिफ को किसी गाने का हिस्सा बनाएंगे? इसके जवाब में कहा कि इस वक्त परिस्थिति दूसरी तरह की है। हालांकि हम इंकार नहीं कर सकते। हसनैन के मुताबिक देश में जो कुछ गलत हो रहा है उसके लिए किसी कलाकार को जिम्मेदार ठहराना गलत है। एकदम से चीजें बदल गईं और उन्हें देश वापिस लौटने के लिए कह दिया गया। हमें पाकिस्तानी कलाकारों को समझना चाहिए। हमारे देश की तुलना में वहां परिस्थितियां अलग हैं। इसी वजह से वो किसी तरह का स्टैंड लेने से बच रहे हैं।

Read Also: सलमान के साथ इस शर्त पर काम करने को तैयार हैं ऐश्वर्या

बता दें कि मनसे और पाकिस्तानी कलाकारों के बीच जारी विवाद पिछले कुछ समय से मुद्दा बना हुआ है। उरी हमने में भारतीय सेना के 18 जवान शहीद हो गए थे। इसी के बाद मनसे की मांग है कि पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन लगा देना चाहिए और उन्हें अपने देश वापस लौट जाना चाहिए। इसके लिए मनसे पहले ही कलाकारों को अल्टीमेटम दे चुकी है। इसके अलावा राज ठाकरे ने पाकिस्तानी कलाकारों वाली फिल्मों को रिलीज ना होने देने की धमकी भी दी है। इसी वजह से गुड़गांव में होने वाले आतिफ असलम के कॉन्सर्ट को कैंसिल जबकि राहत फतेह अली खान को फिल्म से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। इम्पा ने भी दोनों देशों के बीच रिश्ते सामान्य होने तक पाक कलाकारों के काम करने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। वहीं इसके जवाब में पाकिस्तान ने भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर रोक लगाई हुई है।

Read Also: अभिजीत ने करण जौहर को बताया फवाद खान की महबूबा, कहा- एक और लव जिहाद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 3, 2016 7:13 pm

  1. No Comments.

सबरंग