ताज़ा खबर
 

…जानिए आखिर क्यों लाश से लिपट कर सोने को मजबूर थी ये 5 साल की बच्ची, KBC में हुआ खुलासा

सोनी टीवी पर एक बार फिर 'कौन बनेगा करोड़पति' दर्शकों पर अपना जादू बिखेर रहा है। केबीसी का सीजन-9 28 अगस्त से शुरू किया गया था और हर बार की तरह इस बार भी इस शो को लोगों का काफी प्यार मिल रहा है।
15 सितंबर की रात को जब इस शो का एपिसोड अभिषेक बच्चन के साथ शूट किया गया तो बाप-बेटे की जोड़ी ने दर्शकों का दिल जीत लिया।

सोनी टीवी पर एक बार फिर ‘कौन बनेगा करोड़पति’ दर्शकों पर अपना जादू बिखेर रहा है। केबीसी का सीजन-9 28 अगस्त से शुरू किया गया था और हर बार की तरह इस बार भी इस शो को लोगों का काफी प्यार मिल रहा है। 15 सितंबर की रात को जब इस शो का एपिसोड अभिषेक बच्चन के साथ शूट किया गया तो बाप-बेटे की जोड़ी ने दर्शकों का दिल जीत लिया। दरअसल, इस शो में अभिषेक बच्चन गुंज संस्था के संस्थापक अंशु गुप्ता के साथ आए थे। इस दौरान जब अमिताभ बच्चन ने अंशु गुप्ता से गुंज को बनाने के बारे में पूछा तो अंशु के जवाब ने ना सिर्फ बिग बी को बल्कि वहां मौजूद सभी लोगों को सोचने पर मजबूर कर दिया। दरअसल, इस शो में हर फ्राइडे को कुछ सेलिब्रेटीज किसी ना किसी मकसद के तहत खेल में हिस्सा लेते हैं और जीती हुई राशि को किसी संस्थान में दान करते हैं। शुक्रवार को शो में पहुंचे एक सोशल वर्कर ने दिल्ली में गरीबी में जी रहे उन लोगों की एक ऐसी कहानी बताई, जो उनकी आंखों देखी थी। शो के दौरान अपनी संस्था के बारे में बताते हुए अंशु गुप्ता ने बताया कि उन्हें गुंज का आइडिया कहां से आया। अंशु गुप्ता बताते हैं कि एक रात जब वह किसी स्टोरी के सिलसिले में दिल्ली की सड़कों पर घूम रहे थे तो अचानक उनकी नजर एक ऐसे व्यक्ति पर पड़ी जो लाश उठाने का काम करता था।

उस व्यक्ति से बात करने पर अंशु को पता चला कि इस व्यक्ति का गुजारा लाश उठाने से ही होता है क्योंकि इसके बदले उसे 20 रुपए मिल जाया करता था। उस शख्स की एक पांच साल की बेटी भी थी। इन लोगों की जिंदगी को समझने के लिए अंशु ने तय किया कि वह कुछ दिन इनके साथ रहकर इन्हें जानने की कोशिश करेंगे। एक रात जब अंशु उसकी बेटी से बात कर रहे थे तो अंशु ने पूछा कि रात को जब ठंड ज्यादा हो जाती है, ऐसे में इससे बचने के लिए तुम क्या करती हो।

लड़की का जवाब कुछ ऐसा था जिसे सुन अंशु भी थोड़ी देर के लिए सोच में पड़ गए थे। लड़की ने कहा जब ठंड ज्यादा होती है तो मैं लाश से चिपकर सो जाती हूं क्योंकि ना लाश हिलती है और ना ही परेशान करती है। बस यही जवाब सुनकर अंशु ने सोच लिया कि वो इन लोगों के लिए कुछ जरूर करेंगे। अंशु गुप्ता ने इस तरह के लोगों की मदद करने की सोची और गुंज संस्था बन डाली। यह संस्था 22 राज्यों में सहायता प्रदान कर रही है। केबीसी में अंशु ने 25 लाख रुपए जीते और साथ ही उन्होंने कहा कि वह यह प्राइज मनी जरुरतमंदों के काम के लिए डोनेट करेंगे। आप यू-ट्यूब पर इस एपिसोड का पूरा वीडियो देख सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग