ताज़ा खबर
 

लखीमपुर में बोले पीएम मोदी- यूपी में अखिलेश सरकार का काम नहीं कारनामा बोलता है

15 फरवरी को यूपी के 67 विधानसभा सीटों पर मतदान होने हैं
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (File Photo)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में जनसभा को संबोधित कर रहे हैं। अखिलेश सरकार पर निशाना साधते हुए यहां उन्होंने कहा, “क्या इन लोगों ने आपका भला किया, किसानों का भला किया.. माताओं-बहनों को सुरक्षा दी है। हर परीक्षा में फेल हुए हैं, क्या उन्हें फिर से परीक्षा में बैठने का मौका देना चाहिए।” जानिए और क्या बोले पीएम मोदी:

यूपी में जोड़-तोड़ की राजनीति

अखिलेश सरकार सुधरने को तैयार नहीं है

लोकसभा में यूपी के लोगों ने भाजपा की जिताया था

कुर्सी के लिए समाजवादी पार्टी कांग्रेस की गोद में बैठ गई

कांग्रेस से गठबंधन करके समाजवादी पार्टी और सीएम ने डॉक्टर लोहिया का अपमान किया है

यूपी में माताएं-बहनें गले में चेन डालने से पहले डरती हैं कि कहीं कोई चोरी ना करले

आप कहते हैं कि काम बोलता है, लेकिन सारे प्रोजेक्ट अधूरे हैं।

तीन घोषणापत्र निकालने वाले क्या विकास करेंगे

अखिलेश ने केवल योजनाओं के फीते काटे, मेट्रो चल नहीं रही, अस्पताल खाली पड़े हैं

जेल से गैंग चलती हो, हर दिन बलात्कार होते हों, हत्याएं-दंगे होते हों, इसे आप अखिलेश जी का काम कहेंगे या सपा के कारनामे

पहले चरण का रुख ये साफ-साफ बता गया कि कितने ही गठबंधन कर लो, आपके पाप धुलने वाले नहीं हैं

आज दिल्ली में एक ऐसा भाई बैठा है आपका जो आपकी सेवा, रक्षा करना चाहता है। आप बस मौका दीजिए

लखीमपुर में सबसे बड़ी समस्या जलभराव की है। अभी तक जलभराव से नुकसान को कोई मुआवजा नहीं होता था। हमारी सरकार आई और फैसला लिया गया कि जलभराव के कारण भी अगर किसी किसान का नुकसान हुआ है तो उसे भी बीमा दिया जाएगा।

ऐसा क्यों है कि यूपी में सिर्फ 14 फीसदी किसानों का बीमा हुआ है। इसके लिए कौन जिम्मेदार है। 14 फीसदी में भी वही लोग हैं जो इस कुनबे को वोट देते हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अखिलेश यादव से पूछा- आपने मायावती के शासन के दौरान हुए घोटालों की जांच बंद क्यों कर दी।

अखिलेश की सरकार को पता नहीं किसानों से क्या दुश्मनी है। मैं वादा करता हूं कि जो भी किसान अपनी पैदावार उचित दाम पर बेचना चाहती है तो यूपी में भाजपा सरकार ऐसा करेगी

विकास के लिए सरकार बननी चाहिए। भाई-भतीजा वाद, सांप्रदाय, जाती के लिए सरकार नहीं होती। सरकार महिलाओं, नौजवानों, गरीबों के

ये गठबंधन ऐसे नहीं हुआ है। दोनों में एक ही प्रकार की आदतें और अवगुण हैं। इसलिए मेलजोल सरल हो जाता है।

जिन्होंने देश को लूटा-उत्तर प्रदेश को लूटा, जब ऐसे मिल जाएं तो क्या भविष्य होगा।

जब मैडम मायावती जी की सरकार थी.. 2010 और 2012 के बीच में यूपी के 23 गावों में बिजली का काम हुआ जहां बिजली नहीं थी। उसके बाद बारी आई राजकुमार की। उन्होंने 2012 और 2014 यूपी में 3 गावों में बिजली का काम कराया। वहीं जब मेरी सरकार आई तो मैने दो साल में 1364 गांवों में बिजली पहुंचाई। आपको 3 गांव वाली सरकार चाहिए, 23 गांव वाली या 1364 गावों वाली सरकार चाहिए।

हमारी सरकार ऐसे विकास के मॉडल पर काम करेगी, जिससे युवाओं को उन्हीं के जनपद में नौकरी मिले

आज भी मेरी गरीब मां जब लकड़ी का चूल्हा जलाकर खाना पकाती है तो 400 सिगरेट का धुंआ मां के शरीर में जाता है। मां बीमार नहीं होगी तो क्या होगा। जब हम सरकार में तो मैने कहा मैं गरीबी में पैदा हुआ हूं और गरीबी में जीकर आया हूं इसलिए मैं गरीबों के लिए कुछ करना चाहता हूं। हमने एक साल से भी कम समय में 1.8 करोड़ गरीब परिवारों की सरकार की तरफ से मुफ्त में गैस का चूल्हा दिया गया है।

शिवसेना ने पीएम मोदी पर साधा निशाना; कहा- “बाथरूम छाप राजनीति न करें”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.