May 28, 2017

ताज़ा खबर

 

टाउन हॉल में मोदी ने उत्तर प्रदेश में लोगों को दिलाया याद, वड़ोदरा के स्थान पर वाराणसी को चुना

मोदी के निर्वाचन क्षेत्र बनारस में आठ मार्च को अंतिम चरण में मतदान है।

Author वाराणसी | March 5, 2017 00:49 am
वाराणसी मे एक चुनावी रैली को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (पीटीआई फोटो/4 मार्च, 2017)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार (4 मार्च) को कहा कि उन्होंने वड़ोदरा के स्थान पर वाराणसी को चुना क्योंकि वह इस प्राचीन मंदिर नगरी का पुराना वैभव बहाल करना चाहते थे। उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में टाउन हॉल सभा में उत्तर प्रदेश के मतदाताओं से भावनात्मक रिश्ता कायम करने कोशिश करते हुए कहा, ‘मैं अपने गृह प्रदेश में वड़ोदरा और वाराणसी से लोकसभा चुनाव जीता था। मैंने वाराणसी को चुना क्योंकि मैं विश्व की इस प्राचीनतम नगरी के खोये हुए वैभव को बहाल करना चाहता हूं।’ उन्होंने अपना भाषण ‘हर हर महादेव’ से शुरू किया जो इस प्राचीन नगरी में निवासियों के लिए अभिवादन का पुराना तरीका है।

मोदी ने अपनी पहली कुछ पंक्तियां स्थानीय भाषा भोजपुरी में कही और काशी विश्वनाथ एवं काल भैरव मंदिरों में आने का मौका मिलने को लेकर अपनी खुशी प्रकट की। काशी विश्वनाथ इस शहर के मुख्य देवता हैं जबकि कालभैरव को काशी का कोतवाल कहा जाता है। उत्तर प्रदेश में सात चरणों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं और मोदी के निर्वाचन क्षेत्र बनारस में आठ मार्च को अंतिम चरण में मतदान है।

आज (शनिवार, 4 मार्च) के रोडशो को लेकर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की कांग्रेस की मांग से नाराज प्रतीत हो रहे मोदी ने कहा, ‘प्रधानमंत्री एवं सांसद होने के अलावा मैं एक छोटा भाजपा कार्यकर्ता भी हूं। मुझे वह दिन भी याद है जब लोकसभा चुनाव के दौरान शहर में चुनाव अधिकारियों ने मुझे रैली करने के मौके से वंचित कर दिया था। रैली की अनुमति अंतिम घड़ी में दी गयी। मुझे आश्चर्य होता है कि ऐसा निर्णय करने के लिए चुनाव अधिकारियों पर कैसा दबाव रहा होगा।’

उन्होंने कहा, ‘विधानसभा चुनाव लोकतंत्र का पर्व है और मैंने पवित्र मंदिर जाने के रास्ते में खुले वाहन से सफर कर अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों से संवाद करने के मौके का लाभ उठाया।’ उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन ने उन्हें 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान शहर के एक भीड़भाड़ वाले इलाके में रैली करने की इजाजत नहीं दी थी। अमित शाह और अरुण जेटली समेत भाजपा नेता तब विरोध में धरना पर बैठ गए थे।

नीतीश कुमार ने गंगा सफाई अभियान को लेकर केंद्र सरकार पर साधा निशाना, हरकत में आई मोदी सरकार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 5, 2017 12:21 am

  1. S
    sach
    Mar 5, 2017 at 6:03 am
    देश का पहला प्रधान मंत्री जो राज्य के मुख्यमंत्री पद के चुनाव में बावला हुआ जा रहा है...
    Reply

    सबरंग