ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश चुनावों को जातीय-सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं मोदी: मायावती

मायावती ने कहा, ‘भाजपा ने उत्तर प्रदेश में एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया जबकि राज्य में मुस्लिम आबादी 18 से 20 फीसदी है।’
Author लखनऊ | February 21, 2017 19:59 pm
बसपा सुप्रीमो मायावती ने भाजपा पर निशाना साधा है। (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘मिस्टर नेगेटिव दलित मैन’ की संज्ञा देने के एक दिन बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार (21 फरवरी) को मोदी और भाजपा पर आरोप मढा कि वे उत्तर प्रदेश के चुनावों को जातीय एवं सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं। मायावती ने यहां एक बयान में कहा, ‘दो दिन से भाजपा और प्रधानमंत्री सहित उसके शीर्ष नेता गलत बयानबाजी कर रहे हैं। चुनाव के शुरूआती तीन चरणों में खराब प्रदर्शन का अहसास होने के बाद ऐसा किया जा रहा है।’ मायावती ने मोदी की फतेहपुर रैली का हवाला दिया, जिसमें मोदी ने कहा था कि हर गांव में एक कब्रिस्तान और एक श्मशान होना चाहिए। राज्य को अगर रमजान पर बिजली मिले तो दीवाली में भी मिले, ईद पर बिजली मिले तो होली पर भी मिले।

बसपा सुप्रीमो कहती हैं कि चुनाव को जातीय एवं सांप्रदायिक रंग देने के मकसद से ऐसी बयानबाजी की जा रही है। मायावती ने कहा कि मोदी चुनावों को सांप्रदायिक एवं जातीय रंग देना चाहते हैं। ऐसी कोई भी बात कहने से पहले मोदी को हरियाणा और मध्य प्रदेश जैसे भाजपा शासित राज्यों में देखना चाहिए कि क्या वहां हर गांव में ऐसी सुविधा है। उन्होंने कहा कि पहले मोदी को भाजपा शासित राज्यों के हर गांव में श्मशान भूमि देनी चाहिए और उसके बाद मोदी उत्तर प्रदेश की बात करें। इस तरह की गलत बयानबाजी साबित करती है कि वह झूठ की राजनीति करने पर आमादा हैं। ‘भाजपा ने राजनीति का स्तर गिराया है, जो लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है।’

मायावती ने कहा कि प्रधानमंत्री का यह कथन गलत है कि भाजपा जाति एवं संप्रदाय की राजनीति नहीं करती। ‘भाजपा ने उत्तर प्रदेश में एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया जबकि राज्य में मुस्लिम आबादी 18 से 20 फीसदी है।’ उन्होंने कहा कि दूसरी ओर बसपा ने टिकट बंटवारे में बिना किसी भेदभाव के हर जाति एवं धर्म के लोगों को प्रतिनिधित्व दिया है। मायावती ने दावा किया कि चुनाव में बसपा को पूर्ण बहुमत मिलेगा। भाजपा तथा सपा-बसपा गठबंधन दूसरे और तीसरे नंबर के लिए लड़ रहे हैं।

मायावती ने गोण्डा में एक चुनावी जनसभा में कहा कि भाजपा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एजेंडे पर चलते हुए आरक्षण खत्म करने की साजिश रच रही है, इसलिए उससे सावधान रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, ‘कथनी और करनी में विरोधाभास होने के कारण भारतीय जनता पार्टी को अब भारतीय जुमला पार्टी कहा जाने लगा है।’ मायावती ने मतदाताओं से अपील की कि सांप्रदायिक पार्टियों को वोट मत दीजिए। आपका सही फैसला उत्तर प्रदेश की प्रगति में सहायक होगा। सपा सरकार ने शुरू से ही अपराध को बढावा दिया है। प्रदेश में सरेआम गुंडागर्दी, जमीन पर कब्जे व अपराध की घटनाएं हो रही हैं।

उन्होंने एक बार फिर मुस्लिमों से बसपा को वोट देने की अपील की कि मुस्लिम समाज यदि सपा को वोट देता है तो उनका वोट बेकार चला जाएगा। बसपा दलित समाज के वोट से भाजपा को हराने में सक्षम है। यदि मुस्लिम समाज का वोट मिला तो राज्य में बसपा को सरकार बनाने से कोई रोक नहीं सकेगा। मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार की गलत आर्थिक नीतियों से पूरा देश परेशान है। बिना तैयारी के की गयी नोटबंदी से देश में करोड़ों लोग बेरोजगार हो गये हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने चहेते पूंजीपतियों का काला धन नोटबंदी से पहले ही ठिकाने लगवा चुके थे। मोदी ने आज तक नहीं बताया कि कितना कालाधन पकड़ा गया और कितने दोषी पकड़े गये।

उत्तर प्रदेश चुनाव 2017: मायावती ने किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन करने से किया इंकार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Abu talib
    Feb 21, 2017 at 1:05 pm
    मायावती जी की शराफत को सलाम, समस्त विरोध के होते हुए भी अपने हर विरोधी को श्री कहकर ही संबोधित करतीं हैं !और दूसरी ओर उच्च पद पर बैठा व्यक्ति न अपने पद की गरिमा का ख्याल रखता है न शालीनता का !
    (0)(0)
    Reply