ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश चुनाव: फतेहपुर में दो चेयरमैन भी आजमा रहे किस्मत विधानसभा चुनाव में किस्मत

जिले में दो ऐसी विधानसभा सीट हैं जहां से दो निकायों के अध्यक्ष किस्मत आजमा रहे हैं।
Author फतेहपुर | February 21, 2017 03:57 am
चुनाव में वोट देते मतदाताओं की फाइल फोटो। (फाइल)

जिले में दो ऐसी विधानसभा सीट हैं जहां से दो निकायों के अध्यक्ष किस्मत आजमा रहे हैं। इन पर चेयरमैन या चेयरपर्सन होने के साथ विधायक का बेटा या फिर पत्नी होने का ठप्पा लगा है। बात हो रही है बिन्दकी सीट से रालोद प्रत्याशी शाहीन हसन और सदर सीट से सपा प्रत्याशी चन्द्रप्रकाश लोधी की। दोनों पहली बार विधानसभा चुनाव मैदान में उतरे हैं। शाहीन हसन मौजूदा समय में जहानाबाद नगर पंचायत की चेयरपर्सन हैं। शौहर सै0 कासिम हसन ने जहानाबाद सीट से 1977 का चुनाव जनता पार्टी से जीता था। 1996 और 2012 में सदर सीट से जीते थे। कासिम के इंतकाल के बाद उपचुनाव में बेटे आबिद पिता की विरासत को बढ़ाने के लिए आगे तो आए लेकिन मोदी लहर में टिक नहीं सके। अब कासिम की बेगम खुद चुनाव मैदान में हैं।

दूसरी ओर चन्द्रप्रकाश लोधी अभी सदर नगरपालिका चेयरमैन हैं। पिता कृष्णदत्त उर्फ बालराज खागा सीट से कांग्रेस के निशान से विधायक बने थे। वह 1969 और 1974 का चुनाव लगातार जीते। 1977 का चुनाव इसी सीट से हारने के बाद 1980 और 1985 के चुनाव में सफलता का झंडा गाड़ा था। ऐसी स्थिति में चन्द्रप्रकाश लोधी के लिए भी यह चुनाव साख वाला है। उनकी प्रतिष्ठा दांव पर है। जहानाबाद सीट से इस चुनाव में रालोद ने पूर्व विधायक आदित्य पांडेय को उतारा है। यह भाजपा से बागी हैं। इसी सीट से बसपा से 2007 का चुनाव जीता था। इस बार भाजपा से आस लगाए थे, लेकिन पार्टी ने यह सीट अपना दल को दे दी। इस सीट के ज्यादातर परिणाम ब्राह्राण बनाम कुर्मी रहे हैं। ऐसे में आदित्य की दावेदारी भी मजबूत मानी जा रही है।

वहीं खागा विधानसभा सीट से रालोद से राजेश राव चुनाव लड़ रहे हैं। यहां महज छह प्रत्याशी होने से वोटरों के बीच पहुंचने में इन्हें आसानी है। सदर सीट से रालोद प्रत्याशी विक्रम लोधी हैं। वह पहले बसपा में थे। इस सीट पर लोधी वोटरों की तादाद अच्छी है। जातीय समीकरण से चुनाव को काफी हद तक प्रभावित कर सकते हैं। हुसैनगंज सीट से रालोद ने पप्पू सिंह को उतारा है। पप्पू की लहुरी भिटौरा की ब्लाक प्रमुख हैं। यह भाजपा के वोटरों में सेंंधमारी कर सकते हैं।

 

 

महाराष्ट्र: बीजेपी समर्थित MLC ने दिया विवादित बयान, बाद में मांगी माफी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग