ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश चुनाव: सहारनपुर में बढ़े मतदान से नए सिरे से गुणा भाग में उलझे सभी दलों के उम्मीदवार

जिला सहारनपुर में मतदाताओं ने इस विधानसभा चुनाव में भी लोकसभा की तरह बड़ी संख्या में मतदान कर सभी दलों के उम्मीदवारों और चुनाव विश्लेषकों को चौंका दिया है।
Author February 21, 2017 03:43 am
चुनाव की सांकेतिक फोटो।

जिला सहारनपुर में मतदाताओं ने इस विधानसभा चुनाव में भी लोकसभा की तरह बड़ी संख्या में मतदान कर सभी दलों के उम्मीदवारों और चुनाव विश्लेषकों को चौंका दिया है। लिहाजा, वे नए सिरे से इस गुत्थी को हल करने में लग गए हैं।  भाजपा के रणनीतिकार भारी मतदान से उम्मीद में हैं तो विरोधी दल थोड़ा सशंकित। वजह 74 फीसदी मतदान ने जिले में भाजपा को लोकसभा की दोनो सीटें और सात में पांच विधानसभा सीटों पर भारी बढ़त दिलाई थी। मतदान पूर्व के चुनाव विश्लेषकों के समीकरण भी मतदाताओं ने गड़बड़ा दिए हंै।
उत्तर प्रदेश की प्रथम सीट बेहट के तीन लाख 36 हजार 422 मतदाताआें में से दो लाख 51 हजार 736 ने वोट डाले जो 74.83 फीसद है। पिछले विधानसभा चुनाव में यहां 72.92 फीसद और लोकसभा चुनाव 2014 में 76.27 फीसद मतदान हुआ था। यहां मुकाबला कांग्रेस के नरेश सैनी, बसपा के इकबाल और भाजपा के महावीर राणा के बीच रहा। महावीर राणा यहां से पिछली बार जीते थे।

महत्त्वपूर्ण नकुड सीट पर तीन लाख 29 हजार 152 वोटों में से 2 लाख 54 हजार 792 यानी 77.41 फीसद और लोकसभा में 78.23 फीसद एवं पिछले विधानसभा चुनाव में 76.69 फीसद वोट पड़े। इस सीट पर भाजपा के धर्म सिंह सैनी और कांग्रेस के इमरान मसूद के बीच एक बार फिर से वोटों का धु्रवीकरण हुआ। पिछले विधानसभा चुनाव में करीबी मुकाबले में धर्म सिंह सैनी पांच हजार वोटों से इमरान को हराने में सफल हो गए थे। सहारनपुर नगर में पिछले चुनाव से छह फीसद से ज्यादा मतदान हुआ। लोकसभा में यहां 69.45 प्रतिशत, विधानसभा 2012 में 62.54 और इस चुनाव में 68.67 फीसद वोट पड़े। सपा के संजय गर्ग और उनके समर्थक अपनी जीत के प्रति आश्वस्त है तो भाजपाई भी जीत का दावा कर रहे हैं। इस सीट पर वर्ष 2014 में भी उपचुनाव हुआ था। इसमें 56.78 फीसद वोट पड़े थे। तब भाजपा के राजीव गुंबर ने करीबी मुकाबले में संजय गर्ग को हराया था। दारुल उलूम के केंद्र देवबंद में कुल मतदाता तीन लाख 26 हजार 940 हैं।

दो लाख 24 हजार 218 यानी 71.64 फीसद वोट पड़े। बसपा उम्मीदवार माजिद और सपा के माविया अली के बीच मुसलिमों के बंटने का अनुमान है। उपचुनाव 2016 में इस सीट पर 52.65 फीसद और लोकसभा चुनाव में 73.55 वोट पडे थे। गंगोह सीट पर 71.90 फीसद यानी दो लाख 55 हजार 747 वोट पड़े। लोकसभा चुनाव में 75.25 फीसद वोट पडे थे। तब भाजपा यहां सबसे आगे रही थी। भाजपा उम्मीदवार प्रदीप चौधरी ने पिछला चुनाव यहां कांग्रेस टिकट पर जीता था। अबकी कांग्रेस के नोमान मसूद और सपा के चौ. इंद्रसैन एवं बसपा के पूर्व विधायक महिपाल माजरा मुसलिम वोटों का बंटवारा हो गया। रामपुर मनिहारान सुरक्षित सीट पर अबकी 73.4 प्रतिशत, लोकसभा चुनाव में 76.67 प्रतिशत वोट पडे। लोकसभा चुनाव में भाजपा 86 हजार 645 वोट लेकर सबसे आगे रही थी। भाजपा उम्मीदवार देवेंद्र निम, बसपा उम्मीदवार रविंद्र मोल्हू (दो बार के विधायक) और सपा के विश्वदयाल उर्फ छोटन के बीच मुकाबला रहा। सहारनपुर सदर सीट पर अबकी 74.58, पिछले विधानसभा चुनाव में 73.61 और लोकसभा चुनाव में 76.66 फीसद वोट पडे। इस सीट पर कुल मतदाता 3 लाख 17 हजार 339 है। इस चुनाव में दो लाख 36 हजार 516 मतदाताओं ने मत डाले। इस सीट पर बसपा के तीन बार के विधायक जगपाल, भाजपा प्रत्याशी पूर्व विधायक मनोज चौधरी और कांग्रेस के नए उम्मीदवार मसूद अख्तर के बीच कांटे की टक्कर रही। हालांकि जगपाल अपनी जीत के प्रति आश्वस्त हंै, लेकिन विरोधी दोनों उम्मीदवार जीत का दावा कर रहे हंै।

 

 

 

महाराष्ट्र: बीजेपी समर्थित MLC ने दिया विवादित बयान, बाद में मांगी माफी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.