ताज़ा खबर
 

दिल्ली की राजनीति से गायब हो रही कांग्रेस और आप, बीजेपी को पसंद कर रहे लोग

राजौरी गार्डन उपचुनाव के नतीजों से उत्साहित दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी का कहना है कि लोगों ने केजरीवाल और कांग्रेस दोनों को ही पूरी तरह नकार दिया है।
Author नई दिल्ली | April 15, 2017 01:49 am
राजौरी गार्डन उपचुनाव के नतीजों से उत्साहित दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी

राजौरी गार्डन उपचुनाव के नतीजों से उत्साहित दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी का कहना है कि लोगों ने केजरीवाल और कांग्रेस दोनों को ही पूरी तरह नकार दिया है। विधानसभा उपचुनाव के नतीजों का विश्लेषण यह दर्शाता है कि यह ऐसी स्थिति है जिसमें आम आदमी पार्र्टी (आप) और कांग्रेस दोनों ही दिल्ली की राजनीति में कहीं भी नजर नहीं आते। तिवारी ने शुक्रवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि आप और कांग्रेस से कार्यकर्ताओं का मोहभंग हो गया है और वे भाजपा में शामिल होने के लिए संपर्क कर रहे हैं। इस मौके पर तिवारी ने जनकपुरी से कांग्रेस पार्षद हरिशंकर शर्मा, जनकपुरी से कांग्रेसी नेता शिवकुमार सोढ़ी जो 1998 और 2003 में कांग्रेस के विधानसभा उम्मीदवार थे, जनकपुरी कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष राजू रावल, करोल बाग जिला कांग्रेस के महामंत्री राजन बरारा, बदरपुर से आप कार्यकर्ता शम्स शर्मा, अकाली दल से सरदार एनपी सिंह और सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र बिंदल का पत्रकारों से परिचय करवाया जो बिना शर्त भाजपा में शामिल हुएहैं।

तिवारी ने कहा कि राजौरी गार्डन की हार के बाद अरविंद केजरीवाल जिस तरह छिपते फिर रहे हैं और अजय माकन चिल्ला रहे हैं, यह दर्शाता है कि केजरीवाल एक ऐसे हिटलर हैं जो केवल सफलता का श्रेय लेते है और अजय माकन झूठा श्रेय लेकर खुश हैं जबकि उन्हें पता है कि उनके पड़ोसी भी उनका समर्थन नहीं करते। उन्होंने कहा कि आप के उम्मीदवार की जमानत जब्त हो गई और कांग्रेस की उम्मीदवार मीनाक्षी चंदीला न केवल अपने वार्ड में हारीं, बल्कि दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष जिस विधानसभा क्षेत्र में रहते हैं उसके पोलिंग बूथ पर भी हारीं, जिससे यह साफ है कि कांग्रेस का जनता से संपर्क पूरी तरह टूट गया है। उन्होंने यह भी कहा कि बाबरपुर जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष रचना सचदेवा की ओर से अजय माकन और अन्य महिला कांग्रेस नेताओं के खिलाफ प्रताड़ना और परेशान करने की पुलिस में शिकायत कांग्रेसी संस्कृति के बारे में बहुत कुछ कहती है। यह उसी प्रकार का व्यवहार है जैसा केजरीवाल की पार्टी ने अपनी महिला कार्यकर्ताओं के साथ किया। तिवारी ने कहा कि दिल्ली के लोग, खासकर महिलाएं रचना सचदेवा की ओर से लगाए गए आरोपों पर अजय माकन से जवाब मांग रही हैं।

दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने राजौरी गार्डन उपचुनाव में आप को पूरी तरह से अस्वीकार किए जाने की सच्चाई पर पर्दा डालने के लिए पूर्व विधायक जरनैल सिंह को बलि का बकरा बनाने के प्रयास की भी कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि केजरीवाल की गंदी, राष्टÑ विरोधी, विकास विरोधी व प्रजातंत्र विरोधी राजनीति और भ्रष्ट भाई-भतीजावादी प्रशासन ही उनकी पार्र्टी की हार का कारण है। तिवारी ने कहा कि पूर्व विधायक जरनैल सिंह ने अपनी मर्जी से इस्तीफा नहीं दिया। आप ने ही उन्हें पंजाब में चुनाव लड़वाया। जरनैल सिंह की पंजाब में और आप की राजौरी गार्डन में हार होने के बाद पार्र्टी जरनैल सिंह को दोषी ठहराकर पंजाब और दिल्ली में हार की जिम्मेदारी से बचने का प्रयास कर रही है।
तिवारी ने कहा कि साल 2013 और 2015 के चुनाव में हुई जीत का श्रेय केजरीवाल ने लिया था और उन्होंने कई बार इस बारे में ट्वीट भी किए थे। पिछले दो साल से केजरीवाल अन्य राज्यों की राजनीति में व्यस्त रहे। दिल्ली सचिवालय में तो दिखे ही नहीं और ट्विटर के माध्यम से ही दिल्ली के संपर्क में रहे। असल में केजरीवाल ने ट्विटर को ही सरकारी फैसलों और नीतियों की घोषणा करने का जरिया बना लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.