ताज़ा खबर
 

दिल्ली नगर निगम: स्वराज इंडिया के उम्मीदवारों को नहीं मिलेगा एक ही चुनाव चिह्न

हाई कोर्ट का अंतरिम आदेश स्वराज इंडिया के अंतरिम आवेदन पर आया जिसमें एमसीडी चुनाव में पार्टी उम्मीदवारों को समान (एक ही) चुनाव चिह्न दिए जाने का आग्रह किया गया था।
Author नई दिल्ली | April 4, 2017 04:43 am
योगेंद्र यादव

दिल्ली हाई कोर्ट ने सोमवार क योगेंद्र यादव के नेतृत्व वाले स्वराज इंडिया की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें इस पार्टी के उम्मीदवारों को दिल्ली नगर निगम चुनाव में समान (अलग-अलग की जगह एक ही) चुनाव निशान दिए जाने का आग्रह किया गया था।न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति चंद्रशेखर के पीठ ने कहा कि इस चुनाव में उन्हें एक समान चुनाव निशान आबंटित करना जारी चुनाव प्रक्रिया को कमजोर करने के बराबर होगा। पीठ ने कहा, ‘हम आगामी चुनाव में आवेदक (स्वराज इंडिया) को समान चुनाव चिह्न देने के वास्ते कोई अंतरिम आदेश जारी करने को तैयार नहीं हैं।’ इसने यह भी कहा कि अंतरिम आदेश कोई अंतिम मत नहीं है। दिल्ली नगर निगम चुनाव आगामी 23 अप्रैल को होने हैं। इसने कहा कि मामले पर यह विचार किए जाने की आवश्यकता है कि पंजीकृत और गैर मान्यताप्राप्त दल को समान चुनाव चिह्न दिया जाना चाहिए या नहीं। अदालत मामले में अगली सुनवाई 18 जुलाई को करेगी। हाई कोर्ट का अंतरिम आदेश स्वराज इंडिया के अंतरिम आवेदन पर आया जिसमें एमसीडी चुनाव में पार्टी उम्मीदवारों को समान (एक ही) चुनाव चिह्न दिए जाने का आग्रह किया गया था। सोमवार को चुनाव नामांकन की अंतिम तारीख थी।

अदालत ने कहा कि अंतरिम राहत देना समूची चुनाव प्रक्रिया को कमजोर करने के बराबर होगा। पीठ ने एकल न्यायाधीश के उस आदेश को भी बरकरार रखा जिसमें दिल्ली राज्य चुनाव आयोग के इस रुख में दम पाया गया था कि ईवीएम पर उम्मीदवारों की तस्वीरें होंगी और समान चिह्न न होने से पार्टी को कोई नुकसान नहीं होगा। एकल न्यायाधीश ने 29 मार्च को कहा था कि चूंकि याचिका चुनाव प्रक्रिया जारी होने के बाद दायर की गई, इसलिए अदालत के हस्तक्षेप के लिए बहुत देरी हो गई है। एकल न्यायाधीश का फैसला पार्टी की उस याचिका पर आया जिसमें पार्टी को एमसीडी चुनाव में समान चुनाव चिह्न न दिए जाने के दिल्ली चुनाव आयोग के फैसले को चुनौती दी गई थी।

 

दिल्ली: अरविंद केजरीवाल की चुनाव आयोग से मांग- "ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से करवाए जाएं MCD चुनाव"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग