ताज़ा खबर
 

एमसीडी चुनाव में जीत का ‘मोदी फॉर्मूला’ यूपी के निकाय चुनावों में अपनाएगी बीजेपी, ये है मास्‍टर प्‍लान

एमसीडी चुनाव में भाजपा ने तीनों निगमों को मिलाकर कुल 184 सीटों पर जीत दर्ज की।
Author April 29, 2017 20:15 pm
भाजपा की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के पहले दिन प्रधानमंत्री मोदी व पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह। (Source: PTI)

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत हासिल करने के बाद अब भाजपा की नजर स्थानीय निकाय चुनावों पर है। पार्टी के भीतर के लोगों का कहना है कि उत्तर प्रदेश के आगामी निकाय चुनावों में दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) की तर्ज पर रणनीति अपनायी जा सकती है। दिल्ली भाजपा प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय के मुताबिक 270 सीटों में से 262 सीटों पर टिकट नये चेहरों को दिये गये। दिल्ली में नवनिर्वाचित पार्षदों की औसत आयु 39 वर्ष है। सबसे कम उम्र का पार्षद 25 वर्ष का है। उत्तर प्रदेश में निकाय चुनावों की तैयारियों से जुडेÞ एक भाजपा नेता ने कहा कि पार्टी ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। युवाओं को तरजीह मिलेगी। एमसीडी चुनाव की रणनीति अपनायी जा सकती है। उन्होंने कहा कि एमसीडी की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी उन पार्षदों को संभवत: इस बार टिकट ना दिया जाए, जो पिछले कई चुनाव जीतते आ रहे हैं। भाजपा के एक अन्य नेता ने कहा कि उत्तर प्रदेश सीटों के मामले में चूंकि दिल्ली से काफी बडा है इसलिए दिल्ली फार्मूले के साथ साथ ऐसे पार्टी कार्यकर्ताओं को भी टिकट दिये जाएंगे, जिनकी अपने वार्ड में अच्छी छवि है।

एमसीडी चुनाव में भाजपा ने तीनों निगमों को मिलाकर कुल 184 सीटों पर जीत दर्ज की। आम आदमी पार्टी 46 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही। कांग्रेस को 30 सीटें ही मिल पायीं। उत्तर प्रदेश के 2012 के निकाय चुनावों में मेयर के पद के लिए 12 शहरों में चुनाव हुए। भाजपा ने दस सीटें जीतीं। दो सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों के खाते में गयीं। इस बार 14 शहरों में मेयर के चुनाव होने हैं। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि शहरी स्थानीय निकाय चुनाव हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं और पार्टी अपने उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएगी।

पार्टी ने हाल ही में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में जीत हासिल की थी। वहीं गोवा और मणिपुर में गठबंधन सरकार बनाई है। कुछ समय पहले हुए महाराष्ट्र निकाय चुनावों में भी बीजेपी ने आजादी के समय से कांग्रेस का गढ़ माने जाने वाले लातूर निकाय चुनावों ने भी जीत हासिल की थी।

संबंधित वीडियो देखें: 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.