May 28, 2017

ताज़ा खबर

 

जानिए- क्या होता है CSAT और तैयारी में इन खास चीजों पर ध्यान देना जरुरी

सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवार इन दिनों सीसैट परीक्षा को लेकर काफी परेशान हैं और कठिन परीक्षाओं में से एक इस परीक्षा की तैयारी के लिए अलग अलग उपाय कर रहे हैं।

सीसैट का मतलब है सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट। यूपीएससी ने इस वर्ष आयोजित सिविल सर्विसेज प्रारंभिक परीक्षा के सिलेबस और पैटर्न में कई बदलाव किए हैं, जिसके बाद इसे सी-सैट का नाम दिया गया है।

सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवार इन दिनों सीसैट परीक्षा को लेकर काफी परेशान हैं और कठिन परीक्षाओं में से एक इस परीक्षा की तैयारी के लिए अलग अलग उपाय कर रहे हैं। बता दें कि सीसैट का मतलब है सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट। यूपीएससी ने इस वर्ष आयोजित सिविल सर्विसेज प्रारंभिक परीक्षा के सिलेबस और पैटर्न में कई बदलाव किए हैं, जिसके बाद इसे सी-सैट का नाम दिया गया है। लोगों को इस पेपर से डर इसलिए भी लगता है कि क्योंरि एप्टीट्यूड टेस्ट के तहत उम्मीदवारों को अब वैकल्पिक विषयों में से एक का चुनाव नहीं करना होगा। अगर आपको भी इस परीक्षा का सामना करना है तो ये टिप्स आपकी मदद कर सकते हैं।

इस परीक्षा में पास होने के लिए सबसे पहले कॉम्प्रीहेंशन पर ध्यान देना आवश्यक है। कॉम्प्रीहेंशन में जो प्रश्न होते हैं उसके द्वारा यूपीएससी अभ्यर्थी की विश्लेषणात्मक क्षमता की परीक्षा करता है इसलिए अभ्यर्थी को अपना विश्लेषणात्मक क्षमता को बढ़ने का प्रयास करना चाहिए। इसके लिए समाचार पत्र के सम्पादकीय पेज को निरंतर पढ़ना लाभदायक होगा। वहीं नॉलेज फर्स्ट एजुकेशन संस्थान के अनुसार इसका सबसे बढ़िया तरीका यह है कि बिना किसी व्यवधान के 2 घंटे बैठ करके पिछले साल के पेपर हल करें और अपनी क्षमता देखिए। इसके बाद अपनी कमियों का आंकलन कीजिये और पता लगाईये कि किन क्षेत्रो में आप अच्छे अंक प्राप्त नहीं कर पाएं है और किन क्षेत्रो पर कार्य करना है।

कॉम्प्रीहेंशन के प्रश्नों को हल करने के लिए बेहतर भाषायी कौशल की आवश्यकता होती है। इसलिए छात्रों को अपने भाषायी कौशल को बढ़ाने के लिए ऐसे पुस्तकों और लेख को पढ़ना चाहिए जिसकी भाषा प्रभावी और गतिशील हो। साथ ही किसी भी सम्पादकीय या लेख को पढ़ने के बाद अभ्यर्थी को उस पर विचार करना चाहिए। इस रणनीति के द्वारा अपने व्याख्यात्मक क्षमता और मुद्दो की समझ को विकसित की जा सकती है। उसके साथ ही जितना ज्यादा हो सके, उतना अभ्यास करें, ताकि आपको सवालों के पैटर्न से रुबरु हो सकें। दरअसल डाटा विश्लेषण के प्रश्नों को हल करने के लिए अभ्यास की आवश्यकता है । इसके लिए वार्षिक बजट, आर्थिक समीक्षा का अध्ययन लाभदायक होगा। डाटा विश्लेषण से पूछे जाने वाले सवाल बैंकिंग और एमबीए परीक्षाओं में पूछे जाने वाले सवालों से अलग होते हैं।

टी-20 का महाकाय बल्लेबाज ' क्रिस गेल'

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on April 20, 2017 1:00 pm

  1. No Comments.

सबरंग