December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

अब दुनिया भर से शिक्षकों की नियुक्ति करेगा IIT

IIT दिल्ली के डायरेक्टर वी रामगोपाल राव ने इस योजना की घोषणा करते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विद्यार्थी होने के साथ साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फैकल्टी होना जरूरी है।

IIT में अभी PhD विद्यार्थियों की संख्या 2500 है। अगले तीन सालों में इन विद्यार्थियों की संख्या 5000 तक करने की लक्ष्य है।

तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थान इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) के लिए अब विदेशों से फैकल्टी की नियुक्ति की जाएगी। वैश्विक स्तर पर आईआईटी की छवि सुधारने और संस्थान की ग्लोबल रैंकिंग को सुधारने के लिए यह फैसला लिया गया है। IIT दिल्ली के डायरेक्टर वी रामगोपाल राव ने इस योजना की घोषणा करते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विद्यार्थी होने के साथ साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फैकल्टी होना जरूरी है। इसलिए अब IIT दुनिया भर से फैकल्टी की नियुक्ति करेगा। इस कार्यक्रम की शुरुआत जनवरी से होगी। इस संबंध में सबसे पहले अमेरिका से फैकल्टी हायर करने की योजना है। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी का यह कदम वैश्विक स्तर पर IIT की छवि को बेहतर बनाने और दुनिया भर के उच्च शिक्षकों को संस्थान की तरफ आकर्षित करने का प्रयास है। इससे संस्थान की ब्रांड वैल्यू में सुधार आने की संभावना है। IIT में अभी PhD विद्यार्थियों की संख्या 2500 है। अगले तीन सालों में इन विद्यार्थियों की संख्या 5000 तक करने की लक्ष्य है। विदेशी फाकल्टियों की हायरिंग कई फेज में की जाएगी जिससे शिक्षा की गुणवत्ता प्रभावित न हो। वी रामगोपाल राव ने आगे कहा कि इससे पहले भी बाहरी देशों से फैकल्टी लाने की योजना बनाई गई थी पर तब यह योजना सिर्फ भारतीय मूल के शिक्षकों तक सीमित थी।

वीडियो: LG से मिलने पहुंचे दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया पर स्याही फेंकी गई

इस नई योजना के तहत हम विश्व स्तर की प्रतिभा पर केंद्रित रहेंगे। इसके अलावा संस्थान एलुमनी डवलपमेंट सेल बनाने की तैयारी भी कर रही है। आपको बता दें कि इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी तकनीकी शिक्षा मुहैय्या कराने वाला सर्वश्रेष्ठ संस्थान है। हर साल लाखों अभ्यर्थी इसमें चयन के लिए परीक्षा देते हैं।

Read Also: IIT में मुंबई में बंदरों का आतंक से जूझ रहे छात्र, कभी-कभार आ जाते हैं तेंदुएं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 7, 2016 4:07 pm

सबरंग