December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

IIT JEE Exam 2017: परीक्षा के लिए ऐसे करें तैयारी

IIT JEE Exam Tips: JEE अडवांस्ड परीक्षा देने के लिए कॉम्प्रिहेंसन, रीजनिंग और विश्लेषण की क्षमता जरूरी है।

IIT JEE Exam: 11वीं और 12वीं क्लास में पढ़ाये गए फंडामेंटल्स को ठीक से समझना बहुत महत्वपूर्ण है।

अगर आप देश के अग्रणी तकनीकी शिक्षा संस्थान इंडियन इंस्टीट्यूट (IIT) ऑफ टेक्नोलॉजी में दाखिला लेने की सोच रहे हैं तो इसके लिए आपको एक बेहतर तैयारी की जरूरत है। इस संस्थान में दाखिला लेने के लिए आपको IIT JEE परीक्षा उत्तीर्ण करनी जरूरी है। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी हर वर्ष IIT JEE परीक्षा का आयोजन करवाता है। इस परीक्षा में देश भर से विद्यार्थी भाग लेते हैं। जो विद्यार्थी JEE मुख्य परीक्षा में उत्तीर्ण होंगे उन्हें JEE अडवांस्ड परीक्षा देनी होगी। JEE अडवांस्ड परीक्षा देने के लिए कॉम्प्रिहेंसन, रीजनिंग और विश्लेषण की क्षमता जरूरी है। साथ ही तीन विषयों पर आपकी मजबूत पकड़ होना जरूरी है फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथमेटिक्स। इसके अलावा 11वीं और 12वीं क्लास में पढ़ाये गए फंडामेंटल्स को ठीक से समझना बहुत महत्वपूर्ण है। इन कक्षाओं में पढ़ाये गए फंडामेंटल्स पर मजबूत पकड़ से आप IIT प्रवेश परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।

भौतिक विज्ञान- यह विषय बहुत महत्वपूर्ण है। इस विषय के कुछ विषयों पर विशेष ध्यान दें जैसे डाइमेंसनल एनालिसिस, ग्रेविटेशन एंड इलेक्ट्रॉनिक्स, करेंट इलेक्ट्रिसिटी एंड हीट ट्रांसफर, इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंडक्शन, वेव्स एंड साउंड, जियोमेट्रिकल ऑप्टिक्स, थर्मोडायनमिक्स, काइनेटिक थ्योरी ऑफ गैस और रोटेशनल डायनमिक्स

केमेस्ट्री- मोल कॉन्सेप्ट, कॉन्सेप्ट ऑफ इक्विवेलेंट्स, रेडॉक्स रिएक्शन, इलेक्ट्रोकेमेस्ट्री, थर्मोडायनमिक्स, रासायनिक साम्य, भौतिक रसायन, केमिकल बॉन्डिंग, कार्बोनिल कंपाउंड्स, कोऑर्डिनेशन केमेस्ट्री, केमिकल बॉन्डिंग और क्वालिटेटिव एनालिसिस

मैथ्स- सर्किल्स और फैमिली ऑफ सर्किल्स, सीक्वेंस और सीरीज, प्रोबैबिलिटी, वेक्टर्स, कॉम्प्लेक्स नंबर, हाइपबोला गल को-ऑर्डिनेट ज्योमेट्री, फंक्शन, लिमिट, एप्लीकेशन ऑफ डेरेवेटिव्स

वीडियो: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव: रोचक तथ्य

इन तीन विषयों में इन बिंदुओं की विशेष तैयारी करें। तैयारी के वक्त समय का विशेष ध्यान रखें। विद्यार्थियों को 11वीं कक्षा से ही परीक्षा की तैयारी शुरु कर देनी चाहिए। समय का विशेष प्रवंधन करें। जिन विषयों की तैयारी करें उन्हें समय समय पर रिवाइस करते रहें। तनाव से बचने के लिए मेडिटेशन करें। जिन विषयों में तैयारी कम है उनके लिए कोचिंग का सहारा भी ले सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 9, 2016 2:11 pm

सबरंग