June 24, 2017

ताज़ा खबर
 

सीबीएसई का स्कूलों को फरमान- तुरंत बंद करें अपने कैंपस की दुकानें, किताबें-यूनिफॉर्म बेचने पर रोक

सीबीएसई ने अपने परिपत्र में कहा बोर्ड ने बार-बार संबद्ध स्कूलों से कहा है कि पोशाक, पाठ्य पुस्तकों, नोटबुक, स्टेशनरी सामग्रियों आदि की ब्रिकी व्यावसायिक तरीके से नहीं करें।

Author नई दिल्ली | April 21, 2017 12:05 pm
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

निजी प्रकाशकों की पुस्तकों की सामग्री को लेकर उठे विवाद के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने स्कूलों से अपने परिसर में व्यावसायिक तरीके से पाठ्यपुस्तकें, नोटबुक और पोशाकों की बिक्री नहीं करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही सीबीएसई ने एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों का उपयोग करने को कहा है। सीबीएसई ने अपने परिपत्र में कहा बोर्ड ने बार-बार संबद्ध स्कूलों से कहा कि पोशाक, पाठ्य पुस्तकों, नोटबुक, स्टेशनरी सामग्रियों आदि की ब्रिकी व्यावसायिक तरीके से नहीं करें और इस बारे में बोर्ड की संबद्धता के नियमों एवं प्रावधानों का पालन करें। बोर्ड ने कहा है कि, ‘‘ वह ऐसे कार्यो को गंभीरता से लेता है और स्कूलों से ऐसे हानिकारक कार्यो से दूर रहने का निर्देश देता है। ’’

बोर्ड के उप सचिव (संबद्धता) के श्रीनिवास की ओर से जारी परिपत्र में कहा गया है कि अभिभावकों एवं कई पक्षकारों की ओर से विभिन्न शिकायतों के माध्यम से बोर्ड के संज्ञान में यह बात आई है कि स्कूल इसके बाद भी व्यावसायिक तरीके से पुस्तकों, पोशकों आदि की बिक्री कर रहे हैं । स्कूल या तो स्कूल परिसर में इनकी बिक्री कर रहे हैं या कुछ चुनिंदा दुकानदारों के माध्यम से इनकी ब्रिकी करा रहे हैं। बोर्ड ने कहा कि सीबीएसई की संबद्धता के नियम 19.1 में कहा गया है कि कंपनी अधिनियम 1956 की धारा 25 के तहत पंजीकृत सोसाइटी या ट्रस्ट या कंपनी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि स्कूल का संचालन सामुदायिक सेवा के रूप में हो और कारोबार की तरह नहीं। स्कूलों में किसी भी रूप में व्यावसायिकता नहीं पनपे।

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने कहा है कि बोर्ड से संबद्ध सभी स्कूलों को 12 अप्रैल 2016 के उस परिपत्र का पालन करना चाहिए जिसमें एनसीईआरटी : सीबीएसई पाठ्यपुस्तकों का उपयोग करने को कहा गया है। सीबीएसई के परिपत्र में कहा गया है कि बोर्ड को अक्सर ऐसी रिपोर्ट या शिकायतें प्राप्त होती हैं कि स्कूल बच्चों और उनके अभिभावकों पर एनसीईआरटी : सीबीएसई पुस्तकों की बजाए दूसरे प्रकाशकों की पुस्तकें खरीदने का दबाव बनाते हैं। ‘‘ बोर्ड ने ऐसे उल्लंघनों को गंभीरता से लिया है। ऐसे में इस बात पर फिर से ध्यान आकृष्ट किया जाता है कि शैक्षणिक संस्थान, व्यावसायिक प्रतिष्ठान नहीं है और इनका एकमात्र उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है। ’’

बोर्ड ने कहा कि स्कूलों को ऐसे अनुचित कार्यो से दूर रहने का निर्देश दिया जाता है जिसमें अभिभावकों पर स्कूल परिसर के भीतर या चुनिंदा दुकानदारों से पाठ्यपुस्तकें, नोटबुक, स्टेशनरी, पोशाक, जूते, बस्ते आदि खरीदने को कहा जाता है। सीबीएसई ने स्कूल प्रबंधन से इन निर्देशों का सख्ती से पालन करना सुनिश्चित करने को कहा है।

देखिए वीडियो - CBSE ने 12वीं की किताब में 36-24-36 वाली फिगर को माना बेस्ट; वायरल हुआ कंटेंट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on April 21, 2017 10:24 am

  1. No Comments.
सबरंग