ताज़ा खबर
 

पाकिस्तानी सरजमीं पर शान से खड़े इन शाही इमारतों पर थी कभी भारतीय राजाओं की हुकूमत

भारतीय इतिहास में ये किले और महल काफी महत्व रखते थे।
पाकिस्तान में मौजूद नूर महल। फोटो सोर्स- यू ट्यूब

1947 में जब भारत और पाकिस्तान का बंटवारा हुआ तब बहुत सी ऐसी चीजें थीं जिसे सरहद की लकीरों ने बांट दिया था। आज भी पाकिस्तान में ऐसे बहुत से किले और महल हैं जिन्हें बनवाया तो भारतीय शासकों ने था लेकिन बंटवारे के बाद वो पाकिस्तानी हुकूमत के अधीन चली गई। आज ये किले पाकिस्तान में टूरिस्ट प्लेस बन गए हैं, जिनके दीदार को लोग दूर-दूर से आते हैं। भारतीय इतिहास में ये किले  और महल काफी महत्व रखते थे। ये इमारतें देश और रियासत पर राज करने वाले बादशाहों की विजय और पराजय का लंबा इतिहास समेटे हुए हैं। एक समय में भारतीय शासकों के स्वामित्व में रहे ये किले और पैलेस आज पाकिस्तान की शान हैं। ऐसे किलों की बात करने पर जो नाम सबसे पहले जहन में आता है वो है दरावड़ का किला।

दरावड़ का किला पाकिस्तान में मौजूद बहावलपुर के डेरा नवाब साहिब से 48 किलोमीटर दूर है। 30 मीटर उंची दीवारों के 1500 मीटर घेरवाला ये किला चोलिस्तान रेगिस्तान में दूर से ही दिख जाता है। इस किले का निर्माण जैसलमेर के राजपूत राजा झज्जर भाटी ने बनवाया था। 1733 में बहावलपुर के नवाब ने इस किले पर कब्जा कर लिया था। किले के अंदर ही इन नवाब की मजार भी मौजूद है। किले की भव्यता देखकर ही कोई भी इसे बनाने वाले की सल्तनत का अंदाजा लगा सकता है।

एेसे ही कुछ और भी किले और महल हैं जिनका इतिहास हिंदुस्तानी राजाएं से जुड़ा था लेकिन आज इनका वर्तमान पाकिस्तान में है। तो आइये जानते हैं ऐसे ही उन 10 इमारतों के बारे में जो कभी हिंदुस्तानी राजाओं की हुआ करती थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.