ताज़ा खबर
 

अंधेरे कमरे में करते थे पिटाई, देते थे ड्रग्स-115 दिन पाकिस्तान के कब्जे में रहे फौजी चंदू चौहान की खौफनाक आपबीती

चंदू 29 सितंबर को बॉर्डर पार चला गया था और उन्हें हाल ही में 21 जनवरी को रिहा किया गया था।
अपने दादा चिंदा पाटिल के साथ सिपाही चंदू चौहान।

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद गलती से सीमा पार गए सिपाही चंदू सिंह चौहान ने पाकिस्तान के जुल्म की दास्तां के बारे में खुलासा किया है। चंदू 29 सितंबर को बॉर्डर पार चला गया था और उन्हें हाल ही में 21 जनवरी को रिहा किया गया था। चंदू ने आज ही अपने परिवार से अमृतसर में मुलाकात की। चंदू के भाई भूषण ने मुंबई मिरर को बताया कि पाकिस्तानी जेल में उसे बुरी तरह टॉर्चर किया गया। उसे कभी भी सोने नहीं दिया गया और उसे एक अंधेरे कमरे में रखा गया था। उसने बताया कि सीमा पार करने के बाद 21 जनवरी को उसने वाघा बॉर्डर पर पहली बार रोशनी देखी थी।

आर्मी जवान भूषण ने बताया कि उसे लगातार ड्रग्स दिए जाते थे और उसके बाद उससे सेना के कई अधिकारी पूछताछ करते थे।’ उन्होंने बताया कि ड्रग्स के प्रभाव से चंदू भ्रम वाली स्थिति में चला जाता था। उसे लगातार पीटा जाता था, उसकी आंखों पर पट्टी बांधकर सेना के एक कैंप से दूसरे कैंप में ले जाया गया। भूषण ने बताया कि चंदू की अंगुली टूट गई है और घुटने में चोट है। चंदू ने अपने परिवार को बताया कि उसे रिहा होने की उम्मीद थी।

उसने पहली बार वाघा सीमा पर रोशनी की किरण देखी और तब उसे अहसास हुआ कि उसे भारतीय सेना के हवाले किया जा रहा था। भूषण के दादा चिंदा पाटिल ने बताया, ‘चंदू फिलहाल सामान्य है लेकिन वह मानसिक तौर पर काफी सदमे में है और उसके रिकवर होने में वक्त लगेगा। डॉक्टरों ने कहा है कि चंदू के घाव कुछ दिन में भर जाएंगे।’ केन्द्रीय रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे के आग्रह के बाद सोमवार को सेना के अधिकारियों की मौजूदगी में भूषण और चिंदा पाटिल को अमृतसर के सेना अस्तपाल में चंदू से मिलने की इजाजत दी गई।

पढ़ें पूरा बजट कवरेज 

भाई से मिलने के बाद भूषण ने कहा, ‘मैंने उसे गले लगाकर रोता रहा। वह अपनी दादी मां के बारे में पूछ रहा था, जिनका चंदू की गिरफ्तारी के दिन ही निधन हो गया था। मेरे दादाजी ने चंदू को उसकी दादी के निधन के बारे में बताया, जिसपर वह रोने लगा।’ 37 राष्ट्रीय रायफल्स बटालियन के जवान 22 वर्षीय चंदू जम्मू-कश्मीर के मेंढर में तैनात थे। भारत के कूटनीतिक दबाव के कारण पाकिस्तान ने चंदू 21 जनवरी को रिहा किया था।

पाक आर्मी चीफ ने ISI प्रमुख को हटाया, सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी को लेकर उठे थे सवाल, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. चक्रपाणि पांडेय
    Jan 31, 2017 at 10:17 am
    पाकिस्तान के प्रति स्नेह रखने वाले मीड़िया कर्मियों व तथाकथित मानवतावादीयो को सैनिक चन्दु चौहान की यह रिपोर्ट पढनी चाहिए.
    (0)(0)
    Reply
    1. S
      s k
      Feb 10, 2017 at 2:40 pm
      इंडियन मीडिया अब भी आँखें खोलो ,,,,,तुम उन्हें दामाद बनाकर रखते हो , सिक्योरिटी की बातें बताते दिखाते हो, शर्म करो शर्म !
      (0)(0)
      Reply
      1. Vaibhav Bhau
        Jan 31, 2017 at 6:07 pm
        Wo saali barkha dutt ko bohot pasand h na stan.
        (0)(0)
        Reply
        सबरंग