ताज़ा खबर
 

रेयान: ड्राइवर के बयान से केस में टि्वस्ट- आरोपी कंडक्‍टर से प्रद्युम्‍न को कार तक ले जाने के ल‍िए कहा था प्रबंधन ने

सात साल के बच्चे प्रद्युम्‍न की स्कूल के टॉयलेट में गला काटकर हत्या कर दी गई थी।
रेयान इंटरनेशनल स्कूल के बाहर मौजूद लोग। (Photo Source: Indian Express)

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात साल के बच्चे प्रद्युम्न की हत्या का मामला सुलझता हुआ नजर नहीं आ रहा है। अभी बस ड्राइवर के बयान से इस मामले में नया टि्वस्ट सामने आया है। जिस स्कूल बस के कंडक्टर को पुलिस ने बच्चे की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है, उसी बस के ड्राइवर ने खुलासा किया है कि मामले के मुख्य आरोपी ने उससे खून से लथपथ बच्चे को कार तक ले जाने के लिए कहा था। इंडिया टुडे से बात करते हुए बस ड्राइवर सौरभ राघव ने कहा कि घटना घटने के बाद वह तुरंत घटनास्थल पर पहुंचा था। वहां पर उसने देखा कि कंडक्टर की शर्ट खून से सनी हुई है। जब ड्राइवर मौके पर पहुंचा तो कंडक्टर ने कहा कि स्कूल प्रबंधन ने घायल प्रद्युम्न को कार तक ले जाने के लिए कहा है। इसके साथ ही ड्राइवर ने खुलासा किया कि स्कूल प्रशासन और आरोपी कंडक्टर अशोक ने उससे कहा कि बच्चा वॉशरूम में गिर गया, जिसकी वजह से उसे चोट पहुंची है।

ड्राइवर राघव ने बताया कि कंडक्टर को कई बार सलाह दी गई थी कि वह बच्चों का वॉशरूम का इस्तेमाल ना करें, लेकिन वह नहीं मानता था। साथ ही ड्राइवर ने इस बात से भी इनकार कर दिया कि घटनास्थल से बरामद चाकू बस टूल किट का हिस्सा था।

बता दें, इस घटना के बाद भी रेयान इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन की नींद नहीं खुली है। नोएडा स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में भी लापरवाही का मामला देखने को मिला। सोमवार को स्कूल पहुंच परिजनों ने देखा कि एक स्कूल बस के ड्राइवर और कंडक्टर नशे की हालात में स्कूल परिसर में घूम रहे हैं।  इसके बाद दोनों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया गया। हालांकि, स्कूल प्रिंसिपल ने नशे की हालात में पकड़े गए शख्स का बचाव करती हुईं नजर आईं।

ऐसे ही मुंबई में भी रेयान इंटरनेशनल स्कूल में परिजनों ने जमकर हंगामा किया। परिजन स्कूल में सुविधाओं और बच्चों की सुरक्षा को जायजा लेने गए थे। वहां पर परिजनों को सुविधाओं में कमी दिखीं तो उन्होंने स्कूल प्रशासन से इस बारे में बात की और अपना विरोध जताया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.