ताज़ा खबर
 

धर्मनिरपेक्ष सरकारों को खतरा: रावत

उत्तराखंड के बर्खास्त मुख्यमंत्री हरीश रावत ने ‘लोकतंत्र बचाओ पदयात्रा’ का तीसरा चरण कांग्रेस के बागी विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन के विधानसभा क्षेत्र खानपुर में शुरू किया।
Author देहरादून | April 9, 2016 02:36 am
हरीश रावत (पीटीआई फाइल फोटो)

उत्तराखंड के बर्खास्त मुख्यमंत्री हरीश रावत ने ‘लोकतंत्र बचाओ पदयात्रा’ का तीसरा चरण कांग्रेस के बागी विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन के विधानसभा क्षेत्र खानपुर में शुरू किया। तीसरे चरण के तहत रावत ने गांव ढंढेरा से चैंपियन के गांव लंढौरा तक पदयात्रा निकाली। इसमें भारी संख्या में कांग्रेसियों ने भाग लिया। रावत के साथ इस पदयात्रा में उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राजेंद्र चौधरी, कांग्रेस विधायक फुरखान अहमद, पूर्व विधायक अंबरीष कुमार समेत कई कांगे्रसी नेता शामिल हुए।
उधर इस पदयात्रा के खिलाफ कांग्रेस के बागी विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन के समर्थकों ने लंढौरा में हरीश रावत का पुतला फुंका। सुरक्षा की दृष्टि से रावत की इस पदयात्रा में बड़ी तादाद में पुलिस के जवान तैनात किए गए थे। लंढौरा रुड़की तहसील से तकरीबन 25 किलोमीटर दूर स्थित है। लंढौरा में कुंवर प्रणव सिंह का खानदानी राजमहल है। कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन लंढौरा रियासत के राजकुंवर हैं।

रावत ने लंढौरा में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद देश की धर्मनिरपेक्ष सरकारों को खतरा पैदा हो गया है। देश में असहिष्णुता बढ़ी है। राज्यपाल राष्टÑपति शासन की आड़ में भाजपा अपने राजनीतिक हितों की रक्षा कर रही है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के द्वारा जनहित में उठाए गए फैसलों को राष्टÑपति शासन की आड़ लेकर भाजपा के दबाव में बदला जा रहा है। यह असंवैधानिक है, क्योंकि पिछली सरकार के किसी भी फैसले को बदलने का अधिकार जनता द्वारा चुनी हुई सरकार को ही है। इस समय विधानसभा निलंबित है।

ऐसे में उनकी सरकार के किए गए फैसलों को नहीं बदला जा सकता है। रावत ने सूबे के आला अधिकारियों को चेताया कि वे किसी भी दबाव में उनकी सरकार द्वारा किए गए फैसलों को न बदलें। भाजपा गुपचुप तरीके से सूबे में सरकार बनाने की कोशिशें कर रही है। यह अलोकतांत्रिक है। उनकी सरकार बर्खास्त कर राष्टÑपति शासन लगाया गया। इसीलिए पहले राज्यपाल को उन्हें विधानसभा में बहुमत साबित करने का मौका देना चाहिए। उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि भाजपा नोटों की बोरी लेकर कांग्रेस और हमारे समर्थक पीडीएफ विधायकों को खरीदने के लिए उत्तराखंड की खाक छान रही है।

लेकिन उसे सफलता नहीं मिलने वाली है। भाजपा की खिल्ली उड़ाते हुए रावत ने कहा कि भाजपा के नेता बागी कांग्रेसी विधायकों को गंदे नाले का पानी या गटर का पानी कहकर उनका बहुत सम्मान कर रहे हैं। रावत ने चैंपियन पर तंज कसते हुए कहा कि इस विधायक ने अपने क्षेत्र की जनता के साथ धोखा किया है। अगले विधानसभा चुनाव में खानपुर विधानसभा क्षेत्र की जनता ऐसे धोखेबाज विधायकों को सबक सिखाएगी। उधर चैंपियन ने रावत की इस पदयात्रा को ढोंग बताया। उत्तराखंड भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि ‘लोकतंत्र बचाओ’ पदयात्रा दरअसल ‘लूटतंत्र बचाओ’ पदयात्रा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.