ताज़ा खबर
 

PM मोदी ने पुलिस फोर्स के लोगों को दिया Social Media का ज्ञान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में पुलिस बलों के लिए कई सुझाव दिए हैं, जिनमें पल्स पोलियो कार्यक्रम जैसे सामुदायिक अभियानों में शामिल होना, सोशल मीडिया पर सक्रिय होना और महिला बैंड की स्थापना आदि शामिल हैं।
Author नई दिल्ली | February 18, 2016 03:43 am

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में पुलिस बलों के लिए कई सुझाव दिए हैं, जिनमें पल्स पोलियो कार्यक्रम जैसे सामुदायिक अभियानों में शामिल होना, सोशल मीडिया पर सक्रिय होना और महिला बैंड की स्थापना आदि शामिल हैं। मोदी ने गुजरात में पिछले साल दिसंबर में संपन्न पुलिस महानिदेशकों (डीजीपी) और महानिरीक्षकों के तीन दिवसीय सम्मेलन के दौरान शीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ इन विचारों पर विमर्श किया था।

इन विभागों द्वारा तैयार किए गए कार्रवाई खाका के अनुसार पुलिस और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों ने इस दिशा में काम शुरू कर दिए हैं और इस साल के मध्य तक सुझावों के कार्यान्वयन के लिए करीब एक दर्जन समितियां संबंधित संगठनों में बनाई गई हैं। खाका के अनुसार पुलिस बलों को कहा गया है कि वंचित क्षेत्रों में मूलभूत नागरिक सुविधाएं सुनिश्चित कर और पल्स पोलियो टीका कार्यक्रम जैसे विशेष अभियानों और सामुदायिक अभियानों में सक्रिय भागीदारी के जरिए वे अपने और समाज के बीच ‘खाई को पाटने’ की दिशा में कार्य करें।

पुलिसकर्मियों को कहा गया है कि बच्चों को स्कूल जाने के लिए जोर देने की खातिर विशेष कार्यक्रम चलाएं और अपने संबंधित थानों या अधिकारक्षेत्रों में स्थित संस्थानों तथा कालेजों में मेधावी छात्रों को सम्मानित करें। कच्छ सत्र के दौरान यह फैसला किया गया कि टॉपर और प्रतिभाशाली छात्रों के परिवारों को भी इन बलों के परिसरों में सार्वजनिक रूप से सम्मानित किया जाना चाहिए जिससे बलों की लोकोन्मुखी छवि बनाने में मदद मिलेगी।

शहीदों को सम्मानित करने के लिए प्रधानमंत्री ने हर साल राष्ट्रीय पुलिस स्मरणोत्सव दिवस, 31 अक्तूबर को उनके साहसिक कारनामों के बारे में एक आख्यान का सुझाव दिया है ताकि युवा पीढ़ी इन बलों में शामिल होने के लिए प्रेरित हो सके और मजबूत छवि का निर्माण हो सके।
भाषण और बहस प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुलिस स्मृति चिह्नों से भी पुरस्कृत किया जाएगा। खाके के अनुसार प्रधानमंत्री ने इन बलों से महिला बैंड की स्थापना करने को भी कहा है जो महिला सशक्तीकरण के लिए उनकी प्रतिबद्धता का गवाह होगा।

बलों और विभागों से यह भी कहा गया है कि गड़बड़ी पैदा करने और अफवाहें फैलाने के प्रयासों का मुकाबला करने के लिए वे आधिकारिक रूप से ट्विटर और फेसबुक पर अकाउंट खोलने जैसे कदम उठा कर सोशल मीडिया पर अपनी उपस्थिति सक्रियता से दर्ज कराएं।
योग के प्रसार के लिए विशेष पहल करने वाले और पिछले साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित किए जाने में अहम भूमिका निभाने वाले मोदी ने यह इच्छा भी जतायी कि इन बलों में ‘आंतरिक’ योग प्रशिक्षण सुविधाएं हों।

पुलिसकर्मियों को निजी एवं सार्वजनिक उपयोग दोनों के लिए एंड्रायड आधारित एप्लिकेशन तैयार करने को भी कहा गया है ताकि अधिक से अधिक लोग उनके संपर्क में रह सकें। खाका में कहा गया है कि यह सुझाव भी दिया गया है कि पुलिस बलों को पुलिस मित्र स्वयंसेवकों को सूचीबद्ध करने के लिए नए रिकार्ड तैयार करने चाहिए।

आपराधिक पड़ताल और कानून व्यवस्था को कायम रखने के अपने मुख्य कार्य क्षेत्र में पुलिस बलों की दक्षता बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री ने सुझाव दिया कि पांच से दस साल की सेवा के अनुभव वाले पुलिस अधिकारियों को जांच के क्रम में नई प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल के संबंध में ‘कम से कम 100 अधीनस्थों को 100 घंटों का प्रशिक्षण’ देना चाहिए। मोदी ने पिछले साल शीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ विचार विमर्श के बाद 18 लाख से ज्यादा पुलिस कर्मियों को गणतंत्र दिवस के मौके पर एसएमएस आधारित संदेश भेजने की बात की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.