ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी के लिए किरण बेदी को स्वीकार करो: सतीश उपाध्याय

दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा द्वारा किरण बेदी को मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाए जाने के बाद पार्टी में अंदरूनी कलह जारी है। शायद यही वजह है कि दिल्ली भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने पत्र लिखकर सभी पार्टी कार्यकर्ताओं से अंदरूनी मतभेदों को भुलाकर राष्ट्र के हित में काम करने का निवेदन किया है। उपाध्याय ने पत्र […]
दिल्ली भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने पत्र लिखकर सभी पार्टी कार्यकर्ताओं से अंदरूनी मतभेदों को भुलाने का निवेदन किया है। (एक्सप्रेस फ़ोटो)

दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा द्वारा किरण बेदी को मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाए जाने के बाद पार्टी में अंदरूनी कलह जारी है। शायद यही वजह है कि दिल्ली भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने पत्र लिखकर सभी पार्टी कार्यकर्ताओं से अंदरूनी मतभेदों को भुलाकर राष्ट्र के हित में काम करने का निवेदन किया है।

उपाध्याय ने पत्र में कार्यकर्ताओं से कहा कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दिल्ली में मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर किरण बेदी को स्वीकार करते हुए, दिल्ली और देश के हित में काम करें।

“थोड़ी-सी भी शिथिलता रही तो हमें ज़िदगी भर पछताना पड़ेगा और ऐसा अवसर पुनः प्रप्त नहीं होगा। राष्ट्र निर्माण के इस महाअभियान को, इस पवित्र महायज्ञ को सफल बनाने के लिए, दिल्ली को मोदीजी के साथ खड़ा करने के लिए सहयोगी बने।”

पत्र में दिल्ली भाजपा प्रभारी ने लिखा, “राष्ट्रीय नेतृत्व ने हमें किरण बेदी की तरह बेदाग़ और साफ-सुथरी छवि वाले उम्मीदवार दिए हैं, जिसे हमने देशहित में, दिल्ली के हित में और दल के हित में पूरे विश्वास के साथ स्वीकार किया है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Amit Shah
    Jan 31, 2015 at 12:24 pm
    Visit New Web Portal for Gujarati News :� :www.vishwagujarat/
    Reply
  2. S
    Santosh Makharia
    Jan 31, 2015 at 3:51 pm
    राष्ट्रहित ...देशहित ...जनहित /इस सब पे भारी है... दलहित ...स्वहित ..स्वार्थ ,,,,, बयानबाजी और भाषण के द्वारा जनता के वोट का बंटाधार करने की पूरी पूरी तैयारी बीजेपी ईमानदारी से देल्ही की जनता का हित करना चाहती थी........... फिर लगातार चुनाव से भाग क्यों रही थी ? वर्षों के तपे तपाये देल्ही के नेता बीजेपी के लिए जनता को तैयार नही कर पाये जो उन्हें आयातित नेता का ारा लेना पड़ा/
    Reply
  3. R
    Raj
    Jan 31, 2015 at 5:50 pm
    Shadi kar rahen hai kya phir jasoda ben ka kya hoga
    Reply
सबरंग