ताज़ा खबर
 

राहुल द्रविड़ को टीम इंडिया का कोच बनाना चाहता है BCCI

टीम इंडिया को जून 2016 से मार्च 2017 के बीच 18 टेस्‍ट मैच खेलने हैं। ऐसे में इस बात की पूरी संभावना है कि द्रविड़ को कोच बनाया जाएगा।
पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़

भारतीय क्रिकेट बोर्ड की एडवाइजरी कमेटी ने ‘द वॉल’ के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ से संपर्क साधा। बीसीसीआई की एडवाइजरी कमेटी में सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्‍मण और सौरव गांगुली शामिल हैं। ये तीनों जानना चाहते हैं कि क्‍या द्रविड़ टीम इंडिया के कोच बनने के इच्‍छुक हैं। द्रविड़ पिछले एक साल से इंडिया ए और इंडिया अंडर 19 टीम के कोच हैं।

सूत्रों के मुताबिक, कमेटी की ओर से मिले प्रस्‍ताव पर राहुल द्रविड़ ने कहा है कि वह इस बारे में सोचेंगे। दरअसल, क्रिकेट बोर्ड किसी ऐसी आदमी को कोच की जिम्‍मेदारी देना चाहता है, जो कि युवाओं को आगे ले जा सके, खासतौर पर टेस्‍ट क्रिकेट में। बोर्ड के सूत्रों का कहना है कि द्रविड़ यह प्रस्‍ताव स्‍वीकार कर लेना चाहिए, क्‍योंकि बोर्ड उन्‍हें पूरी छूट देने को तैयार है। द्रविड़ अगर कोच का पद संभालने को राजी होते हैं, तो उनके साथ लंबे समय तक के लिए कॉन्‍ट्रैक्‍ट किया जाएगा, संभवत: 2019 वर्ल्‍ड कप तक।

Read Also: विराट कोहली बोले- धोनी की रनिंग देखकर घबरा गई थी ऑस्‍ट्रेलियाई टीम

आपको बता दें कि रवि शास्‍त्री का करार टी20 वर्ल्‍ड कप तक ही था। वह टीम के साथ डायरेक्‍टर के तौर पर थे, लेकिन सूत्रों का कहना है कि हेड कोच की भूमिका के लिए उनके नाम पर विचार नहीं हो रहा है। हालांकि, शास्‍त्री टीम के साथ जुड़े रहना चाहते हैं। क्रिकेट बोर्ड की एडवाइजरी कमेटी की बैठक मंगलवार को होने वाली है। इस मीटिंग में कोच के बारे में विचार किया जाएगा।

टीम इंडिया को जून 2016 से मार्च 2017 के बीच 18 टेस्‍ट मैच खेलने हैं। ऐसे में इस बात की पूरी संभावना है कि द्रविड़ को कोच बनाया जाएगा। इससे पहले क्रिकेट बोर्ड ने ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ी माइकल हसी के बातचीत की थी, लेकिन इसमें उसे सफलता नहीं मिल सकी। सूत्रों का यह भी कहना है कि बोर्ड एसिस्‍टेंट कोच संजय बांगर, बॉलिंग कोच भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर के कॉन्‍ट्रैट को भी बढ़ा सकता है।

Read Also: अनुष्‍का की खिल्‍ली उड़ाने वालों को विराट कोहली का जवाब – थोड़ा तरस खाओ, वो मेरी प्रेरणा हैं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.