ताज़ा खबर
 

बरखा दत्‍त ने कश्‍मीर पर अरनब गोस्‍वामी के रुख को बताया पाखंड, पूछा-मोदी सरकार की कर रहे चमचागिरी?

चर्चा के दौरान अरनब गोस्‍वामी ने एक जगह यह भी कहा कि मीडिया में कुछ खास लोग बुरहान वाणी के लिए हमदर्दी दिखाते हैं।
Author नई दिल्‍ली | July 27, 2016 16:55 pm
बरखा ने अपने फेसबुक पोस्‍ट में लिखा, ‘टाइम्‍स नाऊ मीडिया पर अंकुश लगाने, जर्नलिस्‍ट्स पर केस चलाने और उन्‍हें सजा देने की बात कहता है? क्‍या यह शख्‍स जर्नलिस्‍ट है? मैं उनकी ही तरह इस इंडस्‍ट्री का हिस्‍सा होने पर शर्मिंदा हूं। ”

एनडीटीवी की सीनियर जर्नलिस्‍ट बरखा दत्‍त ने टाइम्‍स नाऊ के एडिटर अरनब गोस्‍वामी पर जोरदार हमला किया है। उन्‍होंने उनके पेशे पर ही सवाल उठाते हुए कहा है कि क्‍या यह शख्‍स पत्रकार है। बरखा ने अपने फेसबुक पोस्‍ट में लिखा, ‘टाइम्‍स नाऊ मीडिया पर अंकुश लगाने, जर्नलिस्‍ट्स पर केस चलाने और उन्‍हें सजा देने की बात कहता है? क्‍या यह शख्‍स जर्नलिस्‍ट है? मैं उनकी ही तरह इस इंडस्‍ट्री का हिस्‍सा होने पर शर्मिंदा हूं। जो चीज चोट पहुंचा रही है, वो उनका खुल्‍लमखुल्‍ला बुजदिली भरा पाखंडपूर्ण रवैया है। वे पाकिस्‍तानपरस्‍त कबूतरों की बात तो करते हैं, लेकिन जम्‍मू-कश्‍मीर में गठबंधन को लेकर हुए समझौते का एक शब्‍द भी जिक्र नहीं करते। इस समझौते के मुताबिक बीजेपी और पीडीपी को पाकिस्‍तान और हुर्रियत से बात करनी है। वे मोदी की पाकिस्‍तान से नजदीकी पर चुप हैं, जिस पर मुझे भी कोई आपत्‍त‍ि नहीं है। मुझे आपत्‍त‍ि इस बात की है कि चूंकि अरनब गोस्‍वामी देशभक्‍त‍ि का आकलन इन विचारों से करते हैं तो वे सरकार पर चुप क्‍यों हैं? चमचागिरी? सोचिए, एक जर्नलिस्‍ट सरकार को उपदेश देता है कि मीडिया के कुछ धड़ों को बंद कर देना चाहिए। उन्‍हें बतौर आईएसआई एजेंट्स और आतंकियों के हमदर्द के तौर पर पेश करता है। उनके खिलाफ मामला चलाने और कार्रवाई करने की बात करता है।’

बरखा दत्‍त की पूरी पोस्‍ट नीचे पढ़ें
Times Now calls for gagging of media & for journalists to be tried &punished. This man is journalist?I am ashamed to be from same industry as him. What’s striking is his brazen and cowardly hypocrisy. So he drones on and on about Pro Pakistan Doves without one word on the JK alliance agreement that commits the BJP and PDP to talks with Pakistan and Hurriyat and is silent on Modi’s own Pakistan outreach- neither of which I object to- but since Arnab Goswami measures patriotism by such views why is he so silent on the government? Chamchagiri? Imagine, a journalist actually exhorts the government to shut down sections of the media, misrepresents them as isi agents and terror sympathisers, calls for them to be tried and acted against. And our fraternity remains locked into politically correct and timid silence. Well Im not a shrinking violet Mr. Goswami and no matter how many times you take my name directly or indirectly on your show, I really dont give a toss for your opinion. I hope I will always be someone whose journalism you loathe, because trust me, the feeling is so utterly mutual that it would kill me to be on the same side of any issue as you.

क्‍या है मामला?
अरनब गोस्‍वामी ने एक दिन पहले अपने शो न्‍यूज ऑवर में जिस विषय पर चर्चा की, उसका विषय था pro pak doves silent. इस चर्चा में बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा, आर्मी रिटायर्ड अफसर जनरल जीडी बक्‍शी, मेजर गौरव आर्या, कश्‍मीर के नेशनल पैंथर्स पार्टी के अध्‍यक्ष भीम सिंह, सुप्रीम कोर्ट की वकील मिहिरा सूद, पॉलिटिकल एक्‍ट‍िविस्‍ट जॉन दयाल मौजूद थे। जीडी बक्‍शी ने कहा, ‘यह इन्‍फॉर्मेशन वॉरफेयर (सूचना के जरिए जंग) का युग है। हम मीडिया के हमले का शिकार हो रहे हैं।’ बक्‍शी ने कहा कि कुछ मीडिया वाले कश्‍मीरी लोगों को अलगाव के लिए भड़का रहे हैं। इस दौरान अरनब ने कहा कि वे इससे पूरी तरह सहमत हैं। इससे पहले, कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए अरनब गोस्‍वामी कहते हैं, ”जब लोग खुलेआम भारत का विरोध और पाकिस्‍तान व आतंकवादियों के लिए समर्थन जाहिर करते हैं तो ऐसे लोगों के साथ कैसा बर्ताव करना चाहिए?” अरनब ने कहा कि वे ऐसे लोगों को स्‍यूडो लिबरल्‍स (छद्म उदारवादी) कहते हैं। चर्चा के दौरान अरनब गोस्‍वामी ने कहा कि ऐसे लोगों का ट्रायल होना चाहिए। चर्चा के दौरान अरनब गोस्‍वामी ने एक जगह यह भी कहा कि मीडिया में कुछ खास लोग बुरहान वाणी के लिए हमदर्दी दिखाते हैं। यह वही ग्रुप है जो अफजल गुरु के लिए काम करता है और उसकी फांसी को साजिश बताता है। अरनब ने कहा कि मीडिया में छिपे ऐसे लोगों पर बात होनी चाहिए।

READ ALSO: बरखा दत्‍त ने टाइम्‍स नाऊ और अरनब गोस्‍वामी पर साधा निशाना, कहा- क्‍या यह शख्‍स जर्नलिस्‍ट है? शर्मिंदा हूं

पूरा कार्यक्रम देखने के लिए नीचे देखें वीडियो

बरखा की फेसबुक पोस्‍ट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    Suresh kejriwal
    Jul 28, 2016 at 10:25 am
    In my view, mr arnab goswami and times now stand is very clear and pro india. Everybody know barkha and NDTV is chamcha of congress and they are snto india. Barkha should be barred from journalism and she does nt desrve to call herself an indian.
    (2)(1)
    Reply
    1. K
      Khaleeq Rehmani
      Jul 27, 2016 at 5:16 pm
      BARKHA DUTT HAS TRAVELLED WIDELY AND KNOWS THE GROUND REALITIES. SHE IS NOT THE ONE WHO FOR SOME MONEY OR FAVOR SELL THEIR CONSCIENCE LIKE OTHER JOURNALISTS. ALL THE BEST BARKHA DUTT.✌✌✌
      (3)(2)
      Reply
      1. P
        P.K.Nayar
        Jul 28, 2016 at 11:20 am
        हाँ, अर्णब गौस्वामी बिलकुल ी कह रहे हैं. अर्णब की सारी बातें देश हित में है. तुम्हें तो ये भी नहीं पता है है की देशभक्ति होती क्या चीज है. पत्रकारिता के नाम पे तुम बरखा दत्त कलंक हो, ये सारी बातें जो तुम भारत में रह कर कर रही हो, अगर ये ही बातें तुम अगर चीन, जापान, अमेरिका, रूस या किसी दूसरे देश में कर रही होती तो अब तक तुम्हारे ऊपर देशद्रोह का मुक़दमा चल गया होता और किसी जेल की काल कोठारी में बंद पड़ी होती एक मुजरिम की तरह. पत्रकारिता का कलंक देखना है तो तुम बरखा दत्त अपने आप को इनके में देख
        (1)(0)
        Reply
        1. P
          pradeep mohanty
          Jul 28, 2016 at 5:04 am
          Arnab Goswami always supports BJP and MODI Govt is a fact. But, I gave up showing his discussion after watching his partiality with other panelist from other tham BJP. 50% times he gave his views which we dont require, and rest time he gave 1 or 2 BJP spokepaersons Like FIXED MAN Sandip patra who has very bad voice.
          (0)(1)
          Reply
          1. A
            a
            Jul 30, 2016 at 12:53 pm
            राडिया के दलालो को एक्सपोज़ करो , क्या कभी रविश उस पे ओपन लेख लिखेगा ?
            (0)(0)
            Reply
          2. R
            R R
            Jul 27, 2016 at 12:02 pm
            Arnav is right.
            (3)(2)
            Reply
            1. Sanjay Sinha
              Jul 27, 2016 at 2:26 pm
              अर्नब का कहना गलत नहीं है. बरखा , राजदेसाई जैसे लोग है जिनकी सोच देश विर्धि है और ये अपने चैनल पर इसी तरह के लोग लाते है. खाश कर बरखा दत्त को तो बन कर ही देना चाहिए. ये लोग मोदी विरोध में देश विरोधी भी बन जाने में शर्म नहीं करते बरखा का तो मुंह जब भी खुलता है तो सड़ान्ध ही निकलती है .
              (3)(3)
              Reply
              1. T
                tp
                Jul 27, 2016 at 11:21 am
                बरखा दत्त तो कोंग्रेसियों की चमचागिरी करेगी ... मिर्ची तो लगेगी ही ...
                (3)(3)
                Reply
                1. Load More Comments