ताज़ा खबर
 

संपादकीय

बराबरी का सफर

सचमुच यह आंकड़ा चौंकाने वाला है कि तीस हजार ट्रैकमैन बरसों से अधिकारियों के घरों पर घरेलू नौकरों की तरह काम रहे हैं, जबकि...

साथ-साथ

अगर लोकसभा और सारी विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने हों, तो जनप्रतिनधित्व कानून में संशोधन के बगैर यह नहीं हो सकता। संवैधानिक संशोधन...

पुरस्कार का संदेश

उत्तर कोरिया के एटमी परीक्षणों तथा नए परीक्षणों की धमकियों से सारा विश्व सशंकित है। यह डर सताने लगा है कि क्या हम नए...

राहत की सौगात

वित्तमंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में हुई जीएसटी परिषद की बाईसवीं बैठक के बाद बीते शुक्रवार को सरकार ने जो घोषणाएं कीं, उनसे साफ...

संपादकीयः मुखौटे के पीछे

भारत में मुखौटा कंपनियों का जाल कितना बड़ा है इसका अंदाजा सरकार की कुछ महीनों से चल रही कार्रवाई और उसके अनुमान से लगाया...

संपादकीयः अभिव्यक्ति की मर्यादा

पिछले कुछ समय से यह चिंता मुखर हुई है कि सोशल मीडिया पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग हो रहा है और इस पर...

संपादकीयः राष्ट्रगान जरूरी

हमारे देश में राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत के सार्वजनिक स्थलों पर गायन का दायरा क्या हो और वह किसके लिए सहज या असहज है, इस...

संपादकीयः आरबीआइ की मुहर

आर्थिक नीति के मोर्चे पर चौतरफा आलोचना झेल रही केंद्र सरकार को एक और झटका भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) की मौद्रिक नीति समिति ने...

मौत की सेल्फी

तीनों छात्र रेलवे ट्रैक पर एक साथ सेल्फी ले रहे थे, तभी ट्रेन ने उन्हें रौंद दिया, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो...

आतंक का सामना

पिछले साल जब उरी में सैन्य शिविर पर तड़के हमला किया था, तब भारत के सत्रह जवान मारे गए थे और तीस घायल हो...

ताज की अनदेखी

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार को आए अभी छह महीने ही हुए हैं पर राज्य सरकार की दशा-दिशा ऐसी है कि इतने कम समय...

वेगास के सबक

तीन साल पहले के एक आंकड़े के मुताबिक अमेरिका में पुलिस और नागरिकों के पास हथियारों की संख्या सैंतीस करोड़ थी, जबकि वहां की...

रोजगार की कसौटी और विकास

आजादी के बाद देश में कुछ नए कल-कारखाने खुले तो कुछ लोगों को काम मिला, लेकिन हमारी आबादी जिस रफ्तार से बढ़ रही...

दलित की दुनिया

प्रशासन तथा शैक्षिक संस्थानों से लेकर जीवन के अनेक क्षेत्रों में आज दलितों की उपस्थिति किसी हद तक हर तरफ दिखाई देती है।...

अपराध की पदचाप

उस आंदोलन के दबाव में या उसके फलस्वरूप 2013 में यौनहिंसा से जुड़े कानूनों को और सख्त बनाया गया। इनमें महिलाओं का पीछा करने...

दुरुस्त आयद

नियमावली जारी होते ही केरल और मिजोरम ने तीखा विरोध जताया था और उसे लागू न करने का एलान किया था। पश्चिम बंगाल ने...

भागवत उवाच

कारोबारी वर्ग भाजपा समर्थक माना जाता रहा है, इसलिए उसकी नाराजगी को लेकर भाजपा और संघ की चिंता स्वाभाविक है।

संपादकीयः साझेदारी का तकाजा

नदियां, समुद्र और पहाड़ राष्ट्रों की हद में नहीं होते। इसलिए इनके प्रति एक वैश्विक और मानवतावादी नजरिया ही मायने रखता है।

सबरंग