ताज़ा खबर
 

व्यापमं की बलि

विभिन्न पदों की खातिर होने वाली भर्ती परीक्षाओं में धांधली और नियुक्तियों में भाई-भतीजावाद के ढेरों उदाहरण मिल जाएंगे। लेकिन मध्यप्रदेश का व्यापमं घोटाला अपूर्व है। इससे पहले शायद ही किसी घोटाले ने इतने लोगों की जान ली हो। व्यापमं घोटाले से आरोपी या गवाह के तौर पर ताल्लुक रखने वाले लोगों की मौत के […]
Author July 7, 2015 17:52 pm

विभिन्न पदों की खातिर होने वाली भर्ती परीक्षाओं में धांधली और नियुक्तियों में भाई-भतीजावाद के ढेरों उदाहरण मिल जाएंगे। लेकिन मध्यप्रदेश का व्यापमं घोटाला अपूर्व है। इससे पहले शायद ही किसी घोटाले ने इतने लोगों की जान ली हो। व्यापमं घोटाले से आरोपी या गवाह के तौर पर ताल्लुक रखने वाले लोगों की मौत के सिलसिले ने पूरे देश को स्तब्ध कर दिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की दलील है कि हरेक मौत को घोटाले से नहीं जोड़ा जा सकता। सही है कि मामले की जांच के दौरान कोई स्वाभाविक मौत हो सकती है। फिर व्यापमं से जुड़े नामों की फेहरिस्त भी लंबी है। लेकिन आरोपियों और गवाहों समेत चालीस से ज्यादा लोगों की मौत क्या महज संयोग है? पिछले तीन दिन में चार मौतें हुई हैं।

घोटाले की खोज-खबर लेने के दौरान एक प्रमुख टीवी चैनल के पत्रकार अक्षय सिंह की शनिवार को मौत हो गई। इसके एक दिन बाद जबलपुर के नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज के डीन और व्यापमं घोटाले की जांच समिति के सदस्य डॉ अरुण शर्मा दिल्ली के एक होटल में रहस्यमय स्थितियों में मृत पाए गए। दो दिन पहले ही शर्मा ने घोटाले से संबंधित दो सौ दस्तावेज एसआइटी को सौंपे थे। फिर, सोमवार को एक महिला सब-इंस्पेक्टर नेतालाब में कूद कर आत्महत्या कर ली, जिसकी भर्ती इसी साल फरवरी में व्यापमं के जरिए हुई थी। इसके कुछ घंटे बाद एक हेड कांस्टेबल की संदिग्ध ढंग से मौत होने की खबर आई, जो आरोपी था और जिससे तीन महीने पहले एसआइटी ने पूछताछ की थी।

यह सिलसिला कहां जाकर खत्म होगा! यह सब संयोग मात्र नहीं हो सकता। जाहिर है कि घोटाले के सूत्रधार सबूतों को नष्ट करने और जांच को अंतहीन बनाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। घोटाले में शामिल होने के आरोप कई प्रभावशाली लोगों पर भी हैं और उन्हें यह भय सताता होगा कि अगर मामले की जांच तर्कसंगत परिणति तक पहुंचेगी तो वे कहीं के नहीं रहेंगे। व्यापमं घोटाला 2013 में उजागर हुआ, पर यह कई साल से चल चल रहा था।

मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले और सरकारी नौकरियों में भर्ती के लिए एक-एक उम्मीदवार से लाखों रुपए वसूले गए। उम्मीदवारों की जगह दूसरों ने परीक्षाएं दीं। राज्यपाल के बेटे का भी नाम आया और राज्य के पूर्व शिक्षामंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा की गिरफ्तारी हुई। राजभवन के संदेह के घेरे में आने के कारण, राज्यपाल को पद से हटाने की मांग करने वाली याचिका सोमवार को सर्वोच्च न्यायालय ने मंजूर कर ली। पर क्या मुख्यमंत्री की कोई जवाबदेही नहीं बनती? गौरतलब है कि व्यापमं यानी मध्यप्रदेश का व्यावसायिक परीक्षा मंडल राज्य के सामान्य प्रशासन विभाग के तहत आता है, जिसकी कमान सीधे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हाथ में रही है।

बड़े पैमाने पर धांधलियां तो हुर्इं ही, सामान्य प्रशासन विभाग ने परीक्षा के नियम भी बदल दिए, जो कि चौहान की मंजूरी के बगैर नहीं हुआ होगा। बरसों से गड़बड़ियां चल रही थीं, जिसमें शिक्षा विभाग के मंत्री से लेकर अनेक विभागों के आला अफसर, बिचौलिये और कई राजनीतिक शामिल थे, फिर भी मुख्यमंत्री को भनक तक नहीं लगी? या, वे जान-बूझ कर आंख मूंदे हुए थे? आरोप तो यह भी है कि खुद मुख्यमंत्री के कई करीबियों और रिश्तेदारों ने बेजा फायदा उठाया। शिवराज सिंह चौहान को भाजपा आदर्श मुख्यमंत्री और उनके कामकाज को सुशासन की मिसाल बताती रही है। पर यह कैसा सुशासन है जिसने घपले और क्रूरता का रिकार्ड कायम किया है! यह सब किसी गैर-भाजपा शासित राज्य में हुआ होता, तो संभवत: भाजपा जोर-शोर से मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग उठाती। पर इस मामले में सीबीआइ जांच की मांग भी उसे गवारा नहीं है। और प्रधानमंत्री, ललित मोदी मामले की तरह व्यापमं कांड पर भी चुप्पी साधे हुए हैं!

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- http://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- http://twitter.com/Jansatta

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. D
    Dev sharma
    Jul 11, 2015 at 12:08 am
    बहुत ही भयानक और शर्मसार करने वाला घपला है जिसमे भाजपा और कांग्रेस के लोग शामिल है, जिन्हे प्रशासन बचा रहा है क्योकि प्रशासन भी दागदार है--
    (0)(0)
    Reply
    1. V
      VIJAY LODHA
      Jul 11, 2015 at 11:38 am
      गौरतलब और संजीदा सवाल यह भी है कि कथित रूप से ऊँची रकमों की रिश्वत लेकर जिन लोगों को डॉक्टर बनाया गया है क्या वे लोगों की सेहत और जानों से खिलवाड़ नहीं कर रहे होंगे,,!!होनहार और मेहनती छात्रों के साथ भी क्या अन्याय नहीं किया गया है..!सवाल यह भी मौजू हो चला है कि जनता के लिए इस बात पर भी संजीदगी से गौर करने का वक्त क्या नहीं आ गया है कि लोकसभा और विधान सभाओं में कैसे लोग चुनकर भेजें जाएँ....!!
      (0)(0)
      Reply
      1. V
        VIJAY LODHA
        Jul 17, 2015 at 12:40 pm
        जनता कुछ कह नहीं रही है इसका यह मतलब नहीं है कि वह कुछ नहीं समझती है. वक्त आने पर जब वह फैसला देगी, उसके खिलाफ कहीं अपील नहीं होगी....
        (0)(0)
        Reply
        1. V
          VIJAY LODHA
          Jul 10, 2015 at 1:33 pm
          लोक से बड़े होने की तंत्र की खुशफहमी की क्या यह बानगी नहीं है.......!
          (0)(0)
          Reply
          1. R
            RAJESH KUMAR
            Jul 17, 2015 at 2:52 pm
            शर्मशार घटना है हमारे देश के नेता कब सुधरेंगे इस देश का भला भगवन भरोसे ही है इस घोटाले में जितने भी नेता शामिल है उनको शख्त से शख्त सजा होनी चाहिए तभी हमारी न्याय प्रणाली पर लोगो का भरोसा जागृत होगा
            (0)(0)
            Reply
            1. Load More Comments